khabar sunkar vo ye itra raha hai | ख़बर सुनकर वो ये इतरा रहा है - Vishal Bagh

khabar sunkar vo ye itra raha hai
mujhe uska bichhoda kha raha hai

mere sayyaad ko koi bula do
mere pinjare ko toda ja raha hai

nikalna hai humein kab se safar par
magar ye jism aade aa raha hai

main usko yaad bhi karna na chaahoon
vo aakar khwaab mein uksaa raha hai

chalo usko aziyat se nikaalen
suna hai ab bhi vo pachta raha hai

ख़बर सुनकर वो ये इतरा रहा है
मुझे उसका बिछोड़ा खा रहा है

मेरे सय्याद को कोई बुला दो
मेरे पिंजरे को तोड़ा जा रहा है

निकलना है हमें कब से सफ़र पर
मगर ये जिस्म आड़े आ रहा है

मैं उसको याद भी करना न चाहूँ
वो आकर ख़्वाब में उकसा रहा है

चलो उसको अज़ीयत से निकालें
सुना है अब भी वो पछता रहा है

- Vishal Bagh
8 Likes

Attitude Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Vishal Bagh

As you were reading Shayari by Vishal Bagh

Similar Writers

our suggestion based on Vishal Bagh

Similar Moods

As you were reading Attitude Shayari Shayari