Prashant Sitapuri

Prashant Sitapuri

माँ जब बीमार होती है कहीं भी जी नहीं लगता
माँ के बीमार होनें पर वही घर काटता मुझको

  • Sher
  • Ghazal

LOAD MORE

More Writers like Prashant Sitapuri

How's your Mood?

Latest Blog

Upcoming Festivals