kaash is khel mein tu mere barabar aata | काश इस खेल में तू मेरे बराबर आता - Zahid Bashir

kaash is khel mein tu mere barabar aata
main tujhe choom ke maidaan se baahar aata

kam na padtii kabhi mujhko teri aankhon ki sabeel
zindagi bhar isee darbaar se langar aata

tum bahut pehle palat aaye mere sehraa se
tum ise paar jo karte to samundar aata

meri aankhon mein kabhi aata tere naam ka ashq
meri chat par bhi teri chat se kabootar aata

kabhi aawaaz to de yaar hamein mushkil mein
aur phir dekh madad ke liye lashkar aata

काश इस खेल में तू मेरे बराबर आता
मैं तुझे चूम के मैदान से बाहर आता

कम न पड़ती कभी मुझको तेरी आँखों की सबील
ज़िन्दगी भर इसी दरबार से लंगर आता

तुम बहुत पहले पलट आये मेरे सेहरा से
तुम इसे पार जो करते तो समुंदर आता

मेरी आँखों में कभी आता तेरे नाम का अश्क़
मेरी छत पर भी तेरी छत से कबूतर आता

कभी आवाज़ तो दे यार हमें मुश्किल में
और फिर देख मदद के लिए लश्कर आता

- Zahid Bashir
5 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zahid Bashir

As you were reading Shayari by Zahid Bashir

Similar Writers

our suggestion based on Zahid Bashir

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari