kuchh pata hi nahi chal raha zindagi kis taraf ja rahi hai | कुछ पता ही नही चल रहा ज़िन्दगी किस तरफ़ जा रही है - Zahid Bashir

kuchh pata hi nahi chal raha zindagi kis taraf ja rahi hai
tera ghar kis taraf hai magar ye gali kis taraf ja rahi hai

ek chehra achaanak chamakne laga hai mazaafat mein
chaand ko bhi pata hai meri raushni kis taraf ja rahi hai

baag se kuchh muqaddam hamaara bhi tha ab nahi hai to kya
jaante hai ye phoolon bhari tokri kis taraf ja rahi hai

कुछ पता ही नही चल रहा ज़िन्दगी किस तरफ़ जा रही है
तेरा घर किस तरफ़ है मगर ये गली किस तरफ़ जा रही है

एक चेहरा अचानक चमकने लगा है मजाफ़ात में
चाँद को भी पता है मेरी रौशनी किस तरफ़ जा रही है

बाग़ से कुछ तअल्लुक़ हमारा भी था अब नही है तो क्या
जानते है ये फूलों भरी टोकरी किस तरफ़ जा रही है

- Zahid Bashir
5 Likes

Life Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zahid Bashir

As you were reading Shayari by Zahid Bashir

Similar Writers

our suggestion based on Zahid Bashir

Similar Moods

As you were reading Life Shayari Shayari