aqal ne achhe achhon ko behkaaya tha | अक़्ल ने अच्छे अच्छों को बहकाया था - Zubair Ali Tabish

aqal ne achhe achhon ko behkaaya tha
shukr hai ham par kuchh vehshat ka saaya tha

tum ne apni gardan unchi hi rakhi
varna main to maala lekar aaya tha

main ab tak uske hi rang mein rangaa hoon
jisne sabse pehle rang lagaaya tha

meri raay sabse pehle li jaaye
maine sabse pehle dhokha khaaya tha

sabko ilm hai phool aur khushboo dono mein
sabse pehle kisne haath chhudaaya tha

ik ladki ne phir mujhko behkaaya hai
ik ladki ne achhe se samjhaaya tha

अक़्ल ने अच्छे अच्छों को बहकाया था
शुक्र है हम पर कुछ वहशत का साया था

तुम ने अपनी गर्दन ऊँची ही रक्खी
वरना मैं तो माला लेकर आया था

मैं अब तक उसके ही रंग में रंगा हूँ
जिसने सबसे पहले रंग लगाया था

मेरी राय सबसे पहले ली जाये
मैंने सबसे पहले धोख़ा खाया था

सबको इल्म है फूल और ख़ुश्बू दोनों में
सबसे पहले किसने हाथ छुड़ाया था

इक लड़की ने फिर मुझको बहकाया है
इक लड़की ने अच्छे से समझाया था

- Zubair Ali Tabish
43 Likes

Nature Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Zubair Ali Tabish

As you were reading Shayari by Zubair Ali Tabish

Similar Writers

our suggestion based on Zubair Ali Tabish

Similar Moods

As you were reading Nature Shayari Shayari