mujhe sire se pakad kar udhed deti hai | मुझे सिरे से पकड़ कर उधेड़ देती है - Aalok Shrivastav

mujhe sire se pakad kar udhed deti hai
main ek jhooth vo sacche suboot jaisi hai

main roz roz tabassum mein chhupta firta hoon
udaasi hai ki mujhe roz dhoondh leti hai

zaroor kuch to banaayegi zindagi mujh ko
qadam qadam pe mera imtihaan leti hai

jo ek phool khila hai sehar ki palkon par
tumhaare jism ki khushboo usi ke jaisi hai

vo raushni jo sitaaron ka khaas zewar hai
ameek aankhon mein akshar dikhaai deti hai

मुझे सिरे से पकड़ कर उधेड़ देती है
मैं एक झूट वो सच्चे सुबूत जैसी है

मैं रोज़ रोज़ तबस्सुम में छुपता फिरता हूँ
उदासी है कि मुझे रोज़ ढूँढ लेती है

ज़रूर कुछ तो बनाएगी ज़िंदगी मुझ को
क़दम क़दम पे मिरा इम्तिहान लेती है

जो एक फूल खिला है सहर की पलकों पर
तुम्हारे जिस्म की ख़ुशबू उसी के जैसी है

वो रौशनी जो सितारों का ख़ास ज़ेवर है
अमीक़ आँखों में अक्सर दिखाई देती है

- Aalok Shrivastav
1 Like

Depression Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Depression Shayari Shayari