ye sochna galat hai ki tum par nazar nahin | ये सोचना ग़लत है कि तुम पर नज़र नहीं - Aalok Shrivastav

ye sochna galat hai ki tum par nazar nahin
masroof ham bahut hain magar be-khabar nahin

ab to khud apne khoon ne bhi saaf kah diya
main aap ka rahoonga magar umr bhar nahin

aa hi gaye hain khwaab to phir jaayenge kahaan
aankhon se aage un ki koi raahguzaar nahin

kitna jiein kahaan se jiein aur kis liye
ye ikhtiyaar ham pe hai taqdeer par nahin

maazi ki raakh ulteen to chingaariyaan miliin
be-shak kisi ko chaaho magar is qadar nahin

ये सोचना ग़लत है कि तुम पर नज़र नहीं
मसरूफ़ हम बहुत हैं मगर बे-ख़बर नहीं

अब तो ख़ुद अपने ख़ून ने भी साफ़ कह दिया
मैं आप का रहूँगा मगर उम्र भर नहीं

आ ही गए हैं ख़्वाब तो फिर जाएँगे कहाँ
आँखों से आगे उन की कोई रहगुज़र नहीं

कितना जिएँ कहाँ से जिएँ और किस लिए
ये इख़्तियार हम पे है तक़दीर पर नहीं

माज़ी की राख उलटीं तो चिंगारियाँ मिलीं
बे-शक किसी को चाहो मगर इस क़दर नहीं

- Aalok Shrivastav
13 Likes

Tasawwur Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Aalok Shrivastav

As you were reading Shayari by Aalok Shrivastav

Similar Writers

our suggestion based on Aalok Shrivastav

Similar Moods

As you were reading Tasawwur Shayari Shayari