abhi to aap hi haa'il hai raasta shab ka | अभी तो आप ही हाइल है रास्ता शब का - Abhishek shukla

abhi to aap hi haa'il hai raasta shab ka
qareeb aaye to dekhenge hausla shab ka

chali to aayi thi kuch door saath saath mere
phir is ke baad khuda jaane kya hua shab ka

mere khayal ke vahshat-kade mein aate hi
junoon ki nok se foota hai aablaa shab ka

sehar ki pehli kiran ne use bikher diya
mujhe sametne aaya tha jab khuda shab ka

zameen pe aa ke sitaaron ne ye kaha mujh se
tire qareeb se guzra hai qaafila shab ka

sehar ka lams meri zindagi badha deta
magar garaan tha bahut mujh pe kaatna shab ka

kabhi kabhi to ye vehshat bhi hum pe guzri hai
ki dil ke saath hi dekha hai doobna shab ka

chatkh uthi hai rag-e-jaan to ye khayal aaya
kisi ki yaad se judta hai silsila shab ka

अभी तो आप ही हाइल है रास्ता शब का
क़रीब आए तो देखेंगे हौसला शब का

चली तो आई थी कुछ दूर साथ साथ मिरे
फिर इस के बाद ख़ुदा जाने क्या हुआ शब का

मिरे ख़याल के वहशत-कदे में आते ही
जुनूँ की नोक से फूटा है आबला शब का

सहर की पहली किरन ने उसे बिखेर दिया
मुझे समेटने आया था जब ख़ुदा शब का

ज़मीं पे आ के सितारों ने ये कहा मुझ से
तिरे क़रीब से गुज़रा है क़ाफ़िला शब का

सहर का लम्स मिरी ज़िंदगी बढ़ा देता
मगर गराँ था बहुत मुझ पे काटना शब का

कभी कभी तो ये वहशत भी हम पे गुज़री है
कि दिल के साथ ही देखा है डूबना शब का

चटख़ उठी है रग-ए-जाँ तो ये ख़याल आया
किसी की याद से जुड़ता है सिलसिला शब का

- Abhishek shukla
1 Like

Motivational Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Abhishek shukla

As you were reading Shayari by Abhishek shukla

Similar Writers

our suggestion based on Abhishek shukla

Similar Moods

As you were reading Motivational Shayari Shayari