paani ko patthar kahte hain | पानी को पत्थर कहते हैं - Adil Mansuri

paani ko patthar kahte hain
kya kuch deeda-war kahte hain

khush-fahmi ki had hoti hain
khud ko daanish-war kahte hain

kaun lagi-lipti rakhta hai
hum tere munh par kahte hain

theek hi kahte honge phir to
jab ye professor kahte hain

sab un ko andar samjhe the
vo khud ko baahar kahte hain

tera is mein kya jaata hai
apne khandar ko ghar kahte hain

nazm samajh mein kab aati hai
dekh is ko mantr kahte hain

पानी को पत्थर कहते हैं
क्या कुछ दीदा-वर कहते हैं

ख़ुश-फ़हमी की हद होती हैं
ख़ुद को दानिश-वर कहते हैं

कौन लगी-लिपटी रखता है
हम तेरे मुँह पर कहते हैं

ठीक ही कहते होंगे फिर तो
जब ये प्रोफ़ेसर कहते हैं

सब उन को अंदर समझे थे
वो ख़ुद को बाहर कहते हैं

तेरा इस में क्या जाता है
अपने खंडर को घर कहते हैं

नज़्म समझ में कब आती है
देख इस को मंतर कहते हैं

- Adil Mansuri
0 Likes

Paani Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Adil Mansuri

As you were reading Shayari by Adil Mansuri

Similar Writers

our suggestion based on Adil Mansuri

Similar Moods

As you were reading Paani Shayari Shayari