sadkon par suraj utara | सड़कों पर सूरज उतरा - Adil Mansuri

sadkon par suraj utara
saaya saaya toot gaya

jab gul ka seena cheera
khushboo ka kaanta nikla

tu kis ke kamre mein thi
main tere kamre mein tha

khidki ne aankhen khuli
darwaaze ka dil dhadka

dil ki andhi khandaq mein
khwaahish ka taara toota

jism ke kaale jungle mein
lazzat ka cheeta lapka

phir baalon mein raat hui
phir haathon mein chaand khila

सड़कों पर सूरज उतरा
साया साया टूट गया

जब गुल का सीना चीरा
ख़ुश्बू का काँटा निकला

तू किस के कमरे में थी
मैं तेरे कमरे में था

खिड़की ने आँखें खोली
दरवाज़े का दिल धड़का

दिल की अंधी ख़ंदक़ में
ख़्वाहिश का तारा टूटा

जिस्म के काले जंगल में
लज़्ज़त का चीता लपका

फिर बालों में रात हुई
फिर हाथों में चाँद खिला

- Adil Mansuri
1 Like

Andhera Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Adil Mansuri

As you were reading Shayari by Adil Mansuri

Similar Writers

our suggestion based on Adil Mansuri

Similar Moods

As you were reading Andhera Shayari Shayari