aadmi khwaar bhi hota hai nahin bhi hota | आदमी ख़्वार भी होता है नहीं भी होता - Afzal Khan

aadmi khwaar bhi hota hai nahin bhi hota
ishq aazaar bhi hota hai nahin bhi hota

ye jo kuch log khayaalon mein raha karte hain
un ka ghar-baar bhi hota hai nahin bhi hota

zindagi sahl-pasandi mein basar kar lena
kaar-e-dushwaar bhi hota hai nahin bhi hota

kaar-e-duniya hi kuch aisa hai ki dil se tira dard
silsila-waar bhi hota hai nahin bhi hota

shaadi-o-marg ne ye nukta bataaya hai ki waqt
tez-raftaar bhi hota hai nahin bhi hota

afzal aur qais ne qaanoon banaya hai ki ishq
doosri baar bhi hota hai nahin bhi hota

आदमी ख़्वार भी होता है नहीं भी होता
इश्क़ आज़ार भी होता है नहीं भी होता

ये जो कुछ लोग ख़यालों में रहा करते हैं
उन का घर-बार भी होता है नहीं भी होता

ज़िंदगी सहल-पसंदी में बसर कर लेना
कार-ए-दुश्वार भी होता है नहीं भी होता

कार-ए-दुनिया ही कुछ ऐसा है कि दिल से तिरा दर्द
सिलसिला-वार भी होता है नहीं भी होता

शादी-ओ-मर्ग ने ये नुक्ता बताया है कि वक़्त
तेज़-रफ़्तार भी होता है नहीं भी होता

'अफ़ज़ल' और क़ैस ने क़ानून बनाया है कि इश्क़
दूसरी बार भी होता है नहीं भी होता

- Afzal Khan
0 Likes

I love you Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Afzal Khan

As you were reading Shayari by Afzal Khan

Similar Writers

our suggestion based on Afzal Khan

Similar Moods

As you were reading I love you Shayari Shayari