ajab junoon-e-masaafat mein ghar se nikla tha | अजब जुनून-ए-मसाफ़त में घर से निकला था - Ahmad Faraz

ajab junoon-e-masaafat mein ghar se nikla tha
khabar nahin hai ki suraj kidhar se nikla tha

ye kaun phir se unhin raaston mein chhod gaya
abhi abhi to azaab-e-safar se nikla tha

ye teer dil mein magar be-sabab nahin utara
koi to harf lab-e-chaaragar se nikla tha

ye ab jo aag bana shehar shehar faila hai
yahi dhuaan mere deewar-o-dar se nikla tha

main raat toot ke roya to chain se soya
ki dil ka zahar meri chashm-e-tar se nikla tha

ye ab jo sar hain khameeda kulaah ki khaatir
ye aib bhi to ham ahl-e-hunr se nikla tha

vo qais ab jise majnoon pukaarte hain faraaz
tiri tarah koi deewaana ghar se nikla tha

अजब जुनून-ए-मसाफ़त में घर से निकला था
ख़बर नहीं है कि सूरज किधर से निकला था

ये कौन फिर से उन्हीं रास्तों में छोड़ गया
अभी अभी तो अज़ाब-ए-सफ़र से निकला था

ये तीर दिल में मगर बे-सबब नहीं उतरा
कोई तो हर्फ़ लब-ए-चारागर से निकला था

ये अब जो आग बना शहर शहर फैला है
यही धुआँ मिरे दीवार-ओ-दर से निकला था

मैं रात टूट के रोया तो चैन से सोया
कि दिल का ज़हर मिरी चश्म-ए-तर से निकला था

ये अब जो सर हैं ख़मीदा कुलाह की ख़ातिर
ये ऐब भी तो हम अहल-ए-हुनर से निकला था

वो क़ैस अब जिसे मजनूँ पुकारते हैं 'फ़राज़'
तिरी तरह कोई दीवाना घर से निकला था

- Ahmad Faraz
3 Likes

Teer Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Teer Shayari Shayari