us ko juda hue bhi zamaana bahut hua | उस को जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ - Ahmad Faraz

us ko juda hue bhi zamaana bahut hua
ab kya kahein ye qissa puraana bahut hua

hum khuld se nikal to gaye hain par ai khuda
itne se waqie ka fasana bahut hua

ab hum hain aur saare zamaane ki dushmani
us se zara sa rabt badhaana bahut hua

ab kyoon zindagi pe mohabbat ko vaar den
is aashiqi mein jaan se jaana bahut hua

ab tak to dil ka dil se ta'aruf na ho saka
maana ki us se milna milaana bahut hua

kya kya na hum kharab hue hain magar ye dil
ai yaad-e-yaar tera thikaana bahut hua

kehta tha naasehon se mere munh na aaiyo
phir kya tha ek huu ka bahaana bahut hua

lo phir tire labon pe usi bewafa ka zikr
ahmad-'faraz tujh se kaha na bahut hua

उस को जुदा हुए भी ज़माना बहुत हुआ
अब क्या कहें ये क़िस्सा पुराना बहुत हुआ

हम ख़ुल्द से निकल तो गए हैं पर ऐ ख़ुदा
इतने से वाक़िए का फ़साना बहुत हुआ

अब हम हैं और सारे ज़माने की दुश्मनी
उस से ज़रा सा रब्त बढ़ाना बहुत हुआ

अब क्यूंन ज़िंदगी पे मोहब्बत को वार दें
इस आशिक़ी में जान से जाना बहुत हुआ

अब तक तो दिल का दिल से तआरुफ़ न हो सका
माना कि उस से मिलना मिलाना बहुत हुआ

क्या क्या न हम ख़राब हुए हैं मगर ये दिल
ऐ याद-ए-यार तेरा ठिकाना बहुत हुआ

कहता था नासेहों से मिरे मुंह न आइयो
फिर क्या था एक हू का बहाना बहुत हुआ

लो फिर तिरे लबों पे उसी बेवफ़ा का ज़िक्र
अहमद-'फ़राज़' तुझ से कहा न बहुत हुआ

- Ahmad Faraz
8 Likes

Intiqam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Intiqam Shayari Shayari