main to maqtal mein bhi qismat ka sikandar nikla | मैं तो मक़्तल में भी क़िस्मत का सिकंदर निकला - Ahmad Faraz

main to maqtal mein bhi qismat ka sikandar nikla
quraa-e-faal mere naam ka akshar nikla

tha jinhen zo'm vo dariya bhi mujhi mein doobe
main ki sehra nazar aata tha samundar nikla

main ne us jaan-e-bahaaraan ko bahut yaad kiya
jab koi phool meri shaakh-e-hunar par nikla

shehar-waalon ki mohabbat ka main qaael hoon magar
main ne jis haath ko chooma wahi khanjar nikla

tu yahin haar gaya hai mere buzdil dushman
mujh se tanhaa ke muqaabil tira lashkar nikla

main ki sehra-e-mohabbat ka musaafir tha faraaz
ek jhonka tha ki khushboo ke safar par nikla

मैं तो मक़्तल में भी क़िस्मत का सिकंदर निकला
क़ुरआ-ए-फ़ाल मिरे नाम का अक्सर निकला

था जिन्हें ज़ो'म वो दरिया भी मुझी में डूबे
मैं कि सहरा नज़र आता था समुंदर निकला

मैं ने उस जान-ए-बहाराँ को बहुत याद किया
जब कोई फूल मिरी शाख़-ए-हुनर पर निकला

शहर-वालों की मोहब्बत का मैं क़ाएल हूँ मगर
मैं ने जिस हाथ को चूमा वही ख़ंजर निकला

तू यहीं हार गया है मिरे बुज़दिल दुश्मन
मुझ से तन्हा के मुक़ाबिल तिरा लश्कर निकला

मैं कि सहरा-ए-मोहब्बत का मुसाफ़िर था 'फ़राज़'
एक झोंका था कि ख़ुश्बू के सफ़र पर निकला

- Ahmad Faraz
3 Likes

Musafir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Musafir Shayari Shayari