tere hote hue mehfil mein jalate hain charaagh | तेरे होते हुए महफ़िल में जलाते हैं चराग़ - Ahmad Faraz

tere hote hue mehfil mein jalate hain charaagh
log kya saada hain suraj ko dikhaate hain charaagh

apni mehroomi ke ehsaas se sharminda hain
khud nahin rakhte to auron ke bujhaate hain charaagh

bastiyaan door hui jaati hain rafta rafta
dam-b-dam aankhon se chhupte chale jaate hain charaagh

kya khabar un ko ki daaman bhi bhadak uthte hain
jo zamaane ki hawaon se bachaate hain charaagh

go siyah-bakht hain hum log pe raushan hai zameer
khud andhere mein hain duniya ko dikhaate hain charaagh

bastiyaan chaand sitaaron ki basaane waalo
kurra-e-arz pe bujhte chale jaate hain charaagh

aise bedard hue hum bhi ki ab gulshan par
barq girti hai to zindaan mein jalate hain charaagh

aisi taariqiyaan aankhon mein basi hain ki faraaz
raat to raat hai hum din ko jalate hain charaagh

तेरे होते हुए महफ़िल में जलाते हैं चराग़
लोग क्या सादा हैं सूरज को दिखाते हैं चराग़

अपनी महरूमी के एहसास से शर्मिंदा हैं
ख़ुद नहीं रखते तो औरों के बुझाते हैं चराग़

बस्तियाँ दूर हुई जाती हैं रफ़्ता रफ़्ता
दम-ब-दम आँखों से छुपते चले जाते हैं चराग़

क्या ख़बर उन को कि दामन भी भड़क उठते हैं
जो ज़माने की हवाओं से बचाते हैं चराग़

गो सियह-बख़्त हैं हम लोग पे रौशन है ज़मीर
ख़ुद अँधेरे में हैं दुनिया को दिखाते हैं चराग़

बस्तियाँ चाँद सितारों की बसाने वालो
कुर्रा-ए-अर्ज़ पे बुझते चले जाते हैं चराग़

ऐसे बेदर्द हुए हम भी कि अब गुलशन पर
बर्क़ गिरती है तो ज़िंदाँ में जलाते हैं चराग़

ऐसी तारीकियाँ आँखों में बसी हैं कि 'फ़राज़'
रात तो रात है हम दिन को जलाते हैं चराग़

- Ahmad Faraz
1 Like

Shama Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Faraz

As you were reading Shayari by Ahmad Faraz

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Faraz

Similar Moods

As you were reading Shama Shayari Shayari