junoon ko rakht kiya khaak ko libaada kiya | जुनूँ को रख़्त किया ख़ाक को लिबादा किया - Ahmad Khayal

junoon ko rakht kiya khaak ko libaada kiya
main dasht dasht bhatkne ka jab iraada kiya

main naasehaan ki sunta hoon aur taalta hoon
so qurb-e-husn chhuta aur na tark-e-baada kiya

mehakte phool sitaare damkata chaand dhanak
tire jamaal se kitnon ne istifaada kya

hazaar rang mein jalwa-numa tha husn-o-jamaal
dil aur shokh hua us ko jitna saada kiya

vo de raha tha talab se siva sabhi ko khayal
so main ne daaman-e-dil aur kuchh kushaada kiya

जुनूँ को रख़्त किया ख़ाक को लिबादा किया
मैं दश्त दश्त भटकने का जब इरादा किया

मैं नासेहान की सुनता हूँ और टालता हूँ
सो क़ुर्ब-ए-हुस्न छुटा और न तर्क-ए-बादा किया

महकते फूल सितारे दमकता चाँद धनक
तिरे जमाल से कितनों ने इस्तिफ़ादा क्या

हज़ार रंग में जल्वा-नुमा था हुस्न-ओ-जमाल
दिल और शोख़ हुआ उस को जितना सादा किया

वो दे रहा था तलब से सिवा सभी को 'ख़याल'
सो मैं ने दामन-ए-दिल और कुछ कुशादा किया

- Ahmad Khayal
0 Likes

Festive Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ahmad Khayal

As you were reading Shayari by Ahmad Khayal

Similar Writers

our suggestion based on Ahmad Khayal

Similar Moods

As you were reading Festive Shayari Shayari