be-takalluf bosa-e-zulf-e-chaleepa leejie | बे-तकल्लुफ़ बोसा-ए-ज़ुल्फ़-ए-चलीपा लीजिए - Akbar Allahabadi

be-takalluf bosa-e-zulf-e-chaleepa leejie
naqd-e-dil maujood hai phir kyun na sauda leejie

dil to pehle le chuke ab jaan ke khwaahan hain aap
is mein bhi mujh ko nahin inkaar achha leejie

paanv pakad kar kahti hai zanjeer-e-zindaan mein raho
vahshat-e-dil ka hai eemaa raah-e-sehra leejie

gair ko to kar ke zid karte hain khaane mein shareek
mujh se kahte hain agar kuchh bhook ho kha leejie

khush-numa cheezen hain baazaar-e-jahaan mein be-shumaar
ek naqd-e-dil se ya-rab mol kya kya leejie

kushta aakhir aatish-e-furqat se hona hai mujhe
aur chande soorat-e-seemaab tadpa leejie

fasl-e-gul ke aate hi akbar hue behosh aap
kholie aankhon ko sahab jaam-e-sehba leejie

बे-तकल्लुफ़ बोसा-ए-ज़ुल्फ़-ए-चलीपा लीजिए
नक़्द-ए-दिल मौजूद है फिर क्यूँ न सौदा लीजिए

दिल तो पहले ले चुके अब जान के ख़्वाहाँ हैं आप
इस में भी मुझ को नहीं इंकार अच्छा लीजिए

पाँव पकड़ कर कहती है ज़ंजीर-ए-ज़िंदाँ में रहो
वहशत-ए-दिल का है ईमा राह-ए-सहरा लीजिए

ग़ैर को तो कर के ज़िद करते हैं खाने में शरीक
मुझ से कहते हैं अगर कुछ भूक हो खा लीजिए

ख़ुश-नुमा चीज़ें हैं बाज़ार-ए-जहाँ में बे-शुमार
एक नक़द-ए-दिल से या-रब मोल क्या क्या लीजिए

कुश्ता आख़िर आतिश-ए-फ़ुर्क़त से होना है मुझे
और चंदे सूरत-ए-सीमाब तड़पा लीजिए

फ़स्ल-ए-गुल के आते ही 'अकबर' हुए बेहोश आप
खोलिए आँखों को साहब जाम-ए-सहबा लीजिए

- Akbar Allahabadi
0 Likes

Protest Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Akbar Allahabadi

As you were reading Shayari by Akbar Allahabadi

Similar Writers

our suggestion based on Akbar Allahabadi

Similar Moods

As you were reading Protest Shayari Shayari