ye kaar-e-zindagi tha to karna pada mujhe | ये कार-ए-ज़िंदगी था तो करना पड़ा मुझे - Ameer Imam

ye kaar-e-zindagi tha to karna pada mujhe
khud ko sametne mein bikhrna pada mujhe

phir khwahishon ko koi saraaye na mil saki
ik aur raat khud mein theharna pada mujhe

mahfooz khaamoshi ki panahon mein tha magar
goonji ik aisi cheekh ki darna pada mujhe

is baar raah-e-ishq kuchh itni taveel thi
us ke badan se ho ke guzarna pada mujhe

poori ameer imaam ki tasveer jab hui
us mein lahu ka rang bhi bharna pada mujhe

ये कार-ए-ज़िंदगी था तो करना पड़ा मुझे
ख़ुद को समेटने में बिखरना पड़ा मुझे

फिर ख़्वाहिशों को कोई सराए न मिल सकी
इक और रात ख़ुद में ठहरना पड़ा मुझे

महफ़ूज़ ख़ामुशी की पनाहों में था मगर
गूँजी इक ऐसी चीख़ कि डरना पड़ा मुझे

इस बार राह-ए-इश्क़ कुछ इतनी तवील थी
उस के बदन से हो के गुज़रना पड़ा मुझे

पूरी अमीर इमाम की तस्वीर जब हुई
उस में लहू का रंग भी भरना पड़ा मुझे

- Ameer Imam
1 Like

DP Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ameer Imam

As you were reading Shayari by Ameer Imam

Similar Writers

our suggestion based on Ameer Imam

Similar Moods

As you were reading DP Shayari Shayari