dasht-e-dil mein saraab taaza hain | दश्त-ए-दिल में सराब ताज़ा हैं - Amjad Islam Amjad

dasht-e-dil mein saraab taaza hain
bujh chuki aankh khwaab taaza hain

daastaan-e-shikast-e-dil hai wahi
ek do chaar baab taaza hain

koi mausam ho dil-gulistaan mein
aarzoo ke gulaab taaza hain

dosti ki zabaan hui matrook
nafratoin ke nisaab taaza hain

aagahi ke hamaari aankhon par
jis qadar hain azaab taaza hain

zakham-dar-zakham dil ke khaate mein
doston ke hisaab taaza hain

sar pe boodhi zameen ke amjad
ab ke ye aftaab taaza hain

दश्त-ए-दिल में सराब ताज़ा हैं
बुझ चुकी आँख ख़्वाब ताज़ा हैं

दास्तान-ए-शिकस्त-ए-दिल है वही
एक दो चार बाब ताज़ा हैं

कोई मौसम हो दिल-गुलिस्ताँ में
आरज़ू के गुलाब ताज़ा हैं

दोस्ती की ज़बाँ हुई मतरूक
नफ़रतों के निसाब ताज़ा हैं

आगही के हमारी आँखों पर
जिस क़दर हैं अज़ाब ताज़ा हैं

ज़ख़्म-दर-ज़ख़्म दिल के खाते में
दोस्तों के हिसाब ताज़ा हैं

सर पे बूढ़ी ज़मीन के 'अमजद'
अब के ये आफ़्ताब ताज़ा हैं

- Amjad Islam Amjad
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Amjad Islam Amjad

As you were reading Shayari by Amjad Islam Amjad

Similar Writers

our suggestion based on Amjad Islam Amjad

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari