usko number deke meri aur uljhan badh gai | उसको नम्बर देके मेरी और उलझन बढ़ गई - Ana Qasmi

usko number deke meri aur uljhan badh gai
phone ki ghanti bajee aur dil ki dhadkan badh gai

is taraf bhi shayari mein kuchh wazn sa aa gaya
us taraf bhi chudiyon ki aur khan khan badh gai

ham ghareebon ke gharo ki wusaaten mat poochiye
gir gai deewaar jitni utni aangan badh gai

mashwara auron se lena ishq mein mehnga pada
chahten kya khaak badhtiin aur anban badh gai

aap to naazuk ishaare karke bas chalte bane
dil ke sholon par idhar to aur chan chan badh gai

उसको नम्बर देके मेरी और उलझन बढ़ गई
फोन की घंटी बजी और दिल की धड़कन बढ़ गई

इस तरफ़ भी शायरी में कुछ वज़न सा आ गया
उस तरफ़ भी चूड़ियों की और खन खन बढ़ गई

हम ग़रीबों के घरों की वुसअतें मत पूछिए
गिर गई दीवार जितनी उतनी आँगन बढ़ गई

मशवरा औरों से लेना इश्क़ में मंहगा पड़ा
चाहतें क्या ख़ाक बढ़तीं और अनबन बढ़ गई

आप तो नाज़ुक इशारे करके बस चलते बने
दिल के शोलों पर इधर तो और छन छन बढ़ गई

- Ana Qasmi
1 Like

Mashwara Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ana Qasmi

As you were reading Shayari by Ana Qasmi

Similar Writers

our suggestion based on Ana Qasmi

Similar Moods

As you were reading Mashwara Shayari Shayari