vo koi husn hai jis husn ka charcha na hua | वो कोई हुस्न है जिस हुस्न का चर्चा न हुआ - Anwar Taban

vo koi husn hai jis husn ka charcha na hua
us ka kya ishq hai jo ishq mein rusva na hua

tera aana jo mere paas maseeha na hua
tha jo beemaar kisi se magar achha na hua

yun to mushtaaq rahe kitna hi us kooche ke
par guzar mere siva aur kisi ka na hua

shaayad aa jaaye kabhi dekhne vo rask-e-masiha
main kisi aur se is vaaste achha na hua

sher kahte hue ik umr hui taabaan ko
haaye afsos ki is kaam main pukhta na hua

वो कोई हुस्न है जिस हुस्न का चर्चा न हुआ
उस का क्या इश्क़ है जो इश्क़ में रुस्वा न हुआ

तेरा आना जो मिरे पास मसीहा न हुआ
था जो बीमार किसी से मगर अच्छा न हुआ

यूँ तो मुश्ताक़ रहे कितना ही उस कूचे के
पर गुज़र मेरे सिवा और किसी का न हुआ

शायद आ जाए कभी देखने वो रश्क-ए-मसीह
मैं किसी और से इस वास्ते अच्छा न हुआ

शेर कहते हुए इक उम्र हुइ 'ताबाँ' को
हाए अफ़्सोस कि इस काम मैं पुख़्ता न हुआ

- Anwar Taban
0 Likes

Ulfat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Anwar Taban

As you were reading Shayari by Anwar Taban

Similar Writers

our suggestion based on Anwar Taban

Similar Moods

As you were reading Ulfat Shayari Shayari