gore gore chaand se munh par kaali kaali aankhen hain | गोरे गोरे चाँद से मुँह पर काली काली आँखें हैं - Arzoo Lakhnavi

gore gore chaand se munh par kaali kaali aankhen hain
dekh ke jin ko neend aa jaaye vo matwaali aankhen hain

munh se palla kya sarkaana is baadal mein bijli hai
soojhti hai aisi hi nahin jo footne waali aankhen hain

chaah ne andha kar rakha hai aur nahin to dekhne mein
aankhen aankhen sab hain barabar kaun niraali aankhen hain

be jis ke andher hai sab kuch aisi baat hai us mein kya
jee ka hai ye bawala-pan ya bholi-bhaali aankhen hain

aarzoo ab bhi khote khare ko kar ke alag hi rakh denge
un ki parakh ka kya kehna hai jo teksaali aankhen hain

गोरे गोरे चाँद से मुँह पर काली काली आँखें हैं
देख के जिन को नींद आ जाए वो मतवाली आँखें हैं

मुँह से पल्ला क्या सरकाना इस बादल में बिजली है
सूझती है ऐसी ही नहीं जो फूटने वाली आँखें हैं

चाह ने अंधा कर रक्खा है और नहीं तो देखने में
आँखें आँखें सब हैं बराबर कौन निराली आँखें हैं

बे जिस के अंधेर है सब कुछ ऐसी बात है उस में क्या
जी का है ये बावला-पन या भोली-भाली आँखें हैं

'आरज़ू' अब भी खोटे खरे को कर के अलग ही रख देंगी
उन की परख का क्या कहना है जो टेकसाली आँखें हैं

- Arzoo Lakhnavi
0 Likes

Hasrat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Arzoo Lakhnavi

As you were reading Shayari by Arzoo Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Arzoo Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Hasrat Shayari Shayari