maasoom nazar ka bholaa-pan lalchaa ke lubhaana kya jaane | मासूम नज़र का भोला-पन ललचा के लुभाना क्या जाने - Arzoo Lakhnavi

maasoom nazar ka bholaa-pan lalchaa ke lubhaana kya jaane
dil aap nishaana banta hai vo teer chalaana kya jaane

kah jaati hai kya vo cheen-e-jabeen ye aaj samajh sakte hain kahi
kuch seekha hua to kaam nahin dil naaz uthaana kya jaane

chatki jo kali koel kooki ulfat ki kahaani khatm hui
kya kis ne kahi kya kis ne sooni ye bata zamaana kya jaane

tha dair-o-haram mein kya rakha jis samt gaya takra ke fira
kis parde ke peeche hai sho'ala andha parwaana kya jaane

ye zora-zori ishq ki thi fitrat hi jis ne badal daali
jalta hua dil ho kar paani aansu ban jaana kya jaane

sajdon se pada patthar mein gadha lekin na mita maathe ka likha
karne ko gareeb ne kya na kiya taqdeer banaana kya jaane

aankhon ki andhi khud-gharzi kahe ko samajhne degi kabhi
jo neend uda de raaton ki vo khwaab mein aana kya jaane

patthar ki lakeer hai naqsh-e-wafa aaina na jaano talvon ka
lehraaya kare rangeen-shola dil palte khaana kya jaane

jis naale se duniya bekal hai vo jalte dil ki mashal hai
jo pehla looka khud na sahe vo aag lagana kya jaane

hum aarzoo aaye baithe hain aur vo sharmaae baithe hain
mushtaaq-nazar gustaakh nahin parda sarkaana kya jaane

मासूम नज़र का भोला-पन ललचा के लुभाना क्या जाने
दिल आप निशाना बनता है वो तीर चलाना क्या जाने

कह जाती है क्या वो चीन-ए-जबीं ये आज समझ सकते हैं कहीं
कुछ सीखा हुआ तो काम नहीं दिल नाज़ उठाना क्या जाने

चटकी जो कली कोयल कूकी उल्फ़त की कहानी ख़त्म हुई
क्या किस ने कही क्या किस ने सुनी ये बता ज़माना क्या जाने

था दैर-ओ-हरम में क्या रखा जिस सम्त गया टकरा के फिरा
किस पर्दे के पीछे है शोअ'ला अंधा परवाना क्या जाने

ये ज़ोरा-ज़ोरी इश्क़ की थी फ़ितरत ही जिस ने बदल डाली
जलता हुआ दिल हो कर पानी आँसू बन जाना क्या जाने

सज्दों से पड़ा पत्थर में गढ़ा लेकिन न मिटा माथे का लिखा
करने को ग़रीब ने क्या न किया तक़दीर बनाना क्या जाने

आँखों की अंधी ख़ुद-ग़र्ज़ी काहे को समझने देगी कभी
जो नींद उड़ा दे रातों की वो ख़्वाब में आना क्या जाने

पत्थर की लकीर है नक़्श-ए-वफ़ा आईना न जानो तलवों का
लहराया करे रंगीं-शोला दिल पलटे खाना क्या जाने

जिस नाले से दुनिया बेकल है वो जलते दिल की मशअल है
जो पहला लूका ख़ुद न सहे वो आग लगाना क्या जाने

हम 'आरज़ू' आए बैठे हैं और वो शरमाए बैठे हैं
मुश्ताक़-नज़र गुस्ताख़ नहीं पर्दा सरकाना क्या जाने

- Arzoo Lakhnavi
0 Likes

Aansoo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Arzoo Lakhnavi

As you were reading Shayari by Arzoo Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Arzoo Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Aansoo Shayari Shayari