dhoop mein saaya bane tanhaa khade hote hain | धूप में साया बने तन्हा खड़े होते हैं - Azhar Faragh

dhoop mein saaya bane tanhaa khade hote hain
bade logon ke khasaare bhi bade hote hain

ek hi waqt mein pyaase bhi hain sairaab bhi hain
ham jo seharaaon ki mitti ke ghade hote hain

aankh khulte hi jabeen choomne aa jaate hain
ham agar khwaab mein bhi tum se lade hote hain

ye jo rahte hain bahut mauj mein shab bhar ham log
subh hote hi kinaare pe pade hote hain

hijr deewaar ka aazaar to hai hi lekin
is ke oopar bhi kai kaanch jade hote hain

धूप में साया बने तन्हा खड़े होते हैं
बड़े लोगों के ख़सारे भी बड़े होते हैं

एक ही वक़्त में प्यासे भी हैं सैराब भी हैं
हम जो सहराओं की मिट्टी के घड़े होते हैं

आँख खुलते ही जबीं चूमने आ जाते हैं
हम अगर ख़्वाब में भी तुम से लड़े होते हैं

ये जो रहते हैं बहुत मौज में शब भर हम लोग
सुब्ह होते ही किनारे पे पड़े होते हैं

हिज्र दीवार का आज़ार तो है ही लेकिन
इस के ऊपर भी कई काँच जड़े होते हैं

- Azhar Faragh
1 Like

Ujaala Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azhar Faragh

As you were reading Shayari by Azhar Faragh

Similar Writers

our suggestion based on Azhar Faragh

Similar Moods

As you were reading Ujaala Shayari Shayari