hansne-hasaane padhne-padhaane ki umr hai | हँसने-हँसाने पढ़ने-पढ़ाने की उम्र है - Azhar Faragh

hansne-hasaane padhne-padhaane ki umr hai
ye umr kab hamaare kamaane ki umr hai

le aayi chat pe kyun mujhe be-waqt ki ghutan
teri to khair baam pe aane ki umr hai

tujh se bichhad ke bhi tujhe milta rahoonga main
mujh se taveel mere zamaane ki umr hai

aulaad ki tarah hai mohabbat ka mujh pe haq
jab tak kisi ka bojh uthaane ki umr hai

gurbat ko kyun na main bhi sharaarat ka naam doon
deewar-o-dar pe phool banaane ki umr hai

koi muzaaiqa nahin peeri ke ishq mein
vaise bhi ye savaab kamaane ki umr hai

हँसने-हँसाने पढ़ने-पढ़ाने की उम्र है
ये उम्र कब हमारे कमाने की उम्र है

ले आई छत पे क्यूँ मुझे बे-वक़्त की घुटन
तेरी तो ख़ैर बाम पे आने की उम्र है

तुझ से बिछड़ के भी तुझे मिलता रहूँगा मैं
मुझ से तवील मेरे ज़माने की उम्र है

औलाद की तरह है मोहब्बत का मुझ पे हक़
जब तक किसी का बोझ उठाने की उम्र है

ग़ुर्बत को क्यूँ न मैं भी शरारत का नाम दूँ
दीवार-ओ-दर पे फूल बनाने की उम्र है

कोई मुज़ाइक़ा नहीं पीरी के इश्क़ में
वैसे भी ये सवाब कमाने की उम्र है

- Azhar Faragh
3 Likes

Khushboo Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azhar Faragh

As you were reading Shayari by Azhar Faragh

Similar Writers

our suggestion based on Azhar Faragh

Similar Moods

As you were reading Khushboo Shayari Shayari