dil ki gali mein chaand nikalta rehta hai | दिल की गली में चाँद निकलता रहता है - Azhar Iqbal

dil ki gali mein chaand nikalta rehta hai
ek diya ummeed ka jalta rehta hai

jaise jaise yaadon ki lau badhti hai
vaise vaise jism pighlata rehta hai

sargoshi ko kaan tarsate rahte hain
sannaata awaaz mein dhalt rehta hai

manzar manzar jee lo jitna jee paao
mausam pal pal rang badalta rehta hai

raakh hui jaati hai saari hariyaali
aankhon mein jungle sa jalta rehta hai

tum jo gaye to bhool gaye saari baatein
vaise dil mein kya kya chalta rehta hai

दिल की गली में चाँद निकलता रहता है
एक दिया उम्मीद का जलता रहता है

जैसे जैसे यादों की लौ बढ़ती है
वैसे वैसे जिस्म पिघलता रहता है

सरगोशी को कान तरसते रहते हैं
सन्नाटा आवाज़ में ढलता रहता है

मंज़र मंज़र जी लो जितना जी पाओ
मौसम पल पल रंग बदलता रहता है

राख हुई जाती है सारी हरियाली
आँखों में जंगल सा जलता रहता है

तुम जो गए तो भूल गए सारी बातें
वैसे दिल में क्या क्या चलता रहता है

- Azhar Iqbal
11 Likes

Mausam Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azhar Iqbal

As you were reading Shayari by Azhar Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Azhar Iqbal

Similar Moods

As you were reading Mausam Shayari Shayari