zameen-e-dil ik arse ba'ad jal-thal ho rahi hai | ज़मीन-ए-दिल इक अर्से बा'द जल-थल हो रही है - Azhar Iqbal

zameen-e-dil ik arse ba'ad jal-thal ho rahi hai
koi baarish mere andar musalsal ho rahi hai

lahu ka rang faila hai hamaare canvas par
teri tasveer ab ja kar mukammal ho rahi hai

hawa-e-taaza ka jhonka chala aaya kahaan se
ki muddat ba'ad si paani mein halchal ho rahi hai

tujhe dekhe se mumkin maghfirat ho jaaye us ki
tere beemaar ki bas aaj aur kal ho rahi hai

vo sahab aa hi gai band-e-qaba kholne lage hain
paheli thi jo ik uljhi hui hal ho rahi hai

ज़मीन-ए-दिल इक अर्से बा'द जल-थल हो रही है
कोई बारिश मेरे अंदर मुसलसल हो रही है

लहू का रंग फैला है हमारे कैनवस पर
तेरी तस्वीर अब जा कर मुकम्मल हो रही है

हवा-ए-ताज़ा का झोंका चला आया कहाँ से
कि मुद्दत बा'द सी पानी में हलचल हो रही है

तुझे देखे से मुमकिन मग़्फ़िरत हो जाए उस की
तेरे बीमार की बस आज और कल हो रही है

वो साहब आ ही गई बंद-ए-क़बा खोलने लगे हैं
पहेली थी जो इक उलझी हुई हल हो रही है

- Azhar Iqbal
11 Likes

Aawargi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Azhar Iqbal

As you were reading Shayari by Azhar Iqbal

Similar Writers

our suggestion based on Azhar Iqbal

Similar Moods

As you were reading Aawargi Shayari Shayari