rawaangi mein samay ka khayal karte hain | रवानगी में समय का ख़याल करते हैं - Balmohan Pandey

rawaangi mein samay ka khayal karte hain
phir us ko bhej ke paharon malaal karte hain

zara se talkh-bayaani pasand hain phir bhi
udaas log mohabbat kamaal karte hain

ab un ko ishq ke aadaab kaun samjhaaye
bujhe charaagh hawa se sawaal karte hain

gunah hai ishq pe paabandiyaan baja lekin
tumhaare log to jeena muhaal karte hain

is ek jumle ne karne nahin diya kuchh bhi
jo log kuchh nahin karte kamaal karte hain

रवानगी में समय का ख़याल करते हैं
फिर उस को भेज के पहरों मलाल करते हैं

ज़रा से तल्ख़-बयानी पसंद हैं फिर भी
उदास लोग मोहब्बत कमाल करते हैं

अब उन को इश्क़ के आदाब कौन समझाए
बुझे चराग़ हवा से सवाल करते हैं

गुनह है इश्क़ पे पाबंदियाँ बजा लेकिन
तुम्हारे लोग तो जीना मुहाल करते हैं

इस एक जुमले ने करने नहीं दिया कुछ भी
जो लोग कुछ नहीं करते कमाल करते हैं

- Balmohan Pandey
10 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Balmohan Pandey

As you were reading Shayari by Balmohan Pandey

Similar Writers

our suggestion based on Balmohan Pandey

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari