sab ke honton pe ye marne ki duaaein kaisi | सब के होंटों पे ये मरने की दुआएँ कैसी - Balmohan Pandey

sab ke honton pe ye marne ki duaaein kaisi
chaaragar tu ne hamein deen hain dawaayein kaisi

ek hi pal mein badalte hain manaazir kya kya
ham tiri aankhen banaayein to banaayein kaisi

may-kashi chhod do jab bhool chuke ho us ko
ab shifaa mil hi gai hai to dawaayein kaisi

aise haalaat mein hansne ki tamannaa kis ko
aise maahol mein jeene ki duaaein kaisi

andhe logon ko suna dete hain us ka chehra
aap ke log bhi dete hain sazaayein kaisi

hansate-gaate bhi udaasi nahin chhodi main ne
chhod deti hain jo bacchon ko vo maayein kaisi

सब के होंटों पे ये मरने की दुआएँ कैसी
चारागर तू ने हमें दीं हैं दवाएँ कैसी

एक ही पल में बदलते हैं मनाज़िर क्या क्या
हम तिरी आँखें बनाएँ तो बनाएँ कैसी

मय-कशी छोड़ दो जब भूल चुके हो उस को
अब शिफ़ा मिल ही गई है तो दवाएँ कैसी

ऐसे हालात में हँसने की तमन्ना किस को
ऐसे माहौल में जीने की दुआएँ कैसी

अंधे लोगों को सुना देते हैं उस का चेहरा
आप के लोग भी देते हैं सज़ाएँ कैसी

हँसते-गाते भी उदासी नहीं छोड़ी मैं ने
छोड़ देती हैं जो बच्चों को वो माएँ कैसी

- Balmohan Pandey
7 Likes

DP Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Balmohan Pandey

As you were reading Shayari by Balmohan Pandey

Similar Writers

our suggestion based on Balmohan Pandey

Similar Moods

As you were reading DP Shayari Shayari