ik bewafa ko dard ka darmaan bana liya | इक बेवफ़ा को दर्द का दरमाँ बना लिया - Behzad Lakhnavi

ik bewafa ko dard ka darmaan bana liya
hum ne to aah kufr ko eemaan bana liya

dil ki khalish-pasandiyaan hain ki allah ki panaah
teer-e-nazar ko jaan-e-rag-e-jaan bana liya

mujh ko khabar nahin mere dil ko khabar nahin
kis ki nazar ne banda-e-ehsaan bana liya

mehsoos kar ke hum ne mohabbat ka har alam
khwaab-e-subuk ko khwaab-e-pareshaan bana liya

dast-e-junoon ki uqda-kushaai to dekhiye
daaman ko be-niyaaz garebaan bana liya

taskin-e-dil ki hum ne bhi parwaah chhod di
har mauj-e-gham ko haasil-e-toofan bana liya

jab un ka naam aa gaya hum muztarib hue
aahon ko apni zeest ka unwaan bana liya

hum ne to apne dil mein vo gham ho ki ho alam
jo koi aa gaya use mehmaan bana liya

aaina dekhne ki zaroorat na thi koi
apne ko khud hi aap ne hairaan bana liya

ik be-wafa pe kar ke tasadduq dil-o-jigar
bahzaad hum ne khud ko pareshaan bana liya

इक बेवफ़ा को दर्द का दरमाँ बना लिया
हम ने तो आह कुफ़्र को ईमाँ बना लिया

दिल की ख़लिश-पसंदियाँ हैं कि अल्लाह की पनाह
तीर-ए-नज़र को जान-ए-रग-ए-जाँ बना लिया

मुझ को ख़बर नहीं मिरे दिल को ख़बर नहीं
किस की नज़र ने बंदा-ए-एहसाँ बना लिया

महसूस कर के हम ने मोहब्बत का हर अलम
ख़्वाब-ए-सुबुक को ख़्वाब-ए-परेशाँ बना लिया

दस्त-ए-जुनूँ की उक़्दा-कुशाई तो देखिए
दामन को बे-नियाज़ गरेबाँ बना लिया

तस्कीन-ए-दिल की हम ने भी परवाह छोड़ दी
हर मौज-ए-ग़म को हासिल-ए-तूफ़ाँ बना लिया

जब उन का नाम आ गया हम मुज़्तरिब हुए
आहों को अपनी ज़ीस्त का उनवाँ बना लिया

हम ने तो अपने दिल में वो ग़म हो कि हो अलम
जो कोई आ गया उसे मेहमाँ बना लिया

आईना देखने की ज़रूरत न थी कोई
अपने को ख़ुद ही आप ने हैराँ बना लिया

इक बे-वफ़ा पे कर के तसद्दुक़ दिल-ओ-जिगर
'बहज़ाद' हम ने ख़ुद को परेशाँ बना लिया

- Behzad Lakhnavi
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Behzad Lakhnavi

As you were reading Shayari by Behzad Lakhnavi

Similar Writers

our suggestion based on Behzad Lakhnavi

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari