kuch is tarah dil se ishq us ka nikaalna hai | कुछ इस तरह दिल से इश्क़ उस का निकालना है - Charagh Sharma

kuch is tarah dil se ishq us ka nikaalna hai
baghair gullak ko tode sikka nikaalna hai

main jaanta hoon mohabbaton ka maqaam-e-aakhir
so us ke kamre se mujh ko pankha nikaalna hai

nikaal phenki ghadi kalaaee se us ki di hui
ab apne khaatir ik-aadh ghanta nikaalna hai

zameen khoden jinhen banaani hain qabr-gaahen
zameen joten jinhen khazana nikaalna hai

nikaal laaya jo mujh ko lehron ki saazishon se
mujhe samundar se ab vo tinka nikaalna hai

कुछ इस तरह दिल से इश्क़ उस का निकालना है
बग़ैर गुल्लक को तोड़े सिक्का निकालना है

मैं जानता हूँ मोहब्बतों का मक़ाम-ए-आख़िर
सो उस के कमरे से मुझ को पंखा निकालना है

निकाल फेंकी घड़ी कलाई से उस की दी हुई
अब अपने ख़ातिर इक-आध घंटा निकालना है

ज़मीन खोदें जिन्हें बनानी हैं क़ब्र-गाहें
ज़मीन जोतें जिन्हें ख़ज़ाना निकालना है

निकाल लाया जो मुझ को लहरों की साज़िशों से
मुझे समुंदर से अब वो तिनका निकालना है

- Charagh Sharma
13 Likes

Mohabbat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Charagh Sharma

As you were reading Shayari by Charagh Sharma

Similar Writers

our suggestion based on Charagh Sharma

Similar Moods

As you were reading Mohabbat Shayari Shayari