dil gaya tum ne liya ham kya karein | दिल गया तुम ने लिया हम क्या करें - Dagh Dehlvi

dil gaya tum ne liya ham kya karein
jaane waali cheez ka gham kya karein

ham ne mar kar hijr mein paai shifaa
aise achhon ka vo maatam kya karein

apne hi gham se nahin milti najaat
is bina par fikr-e-aalam kya karein

ek saaghar par hai apni zindagi
rafta rafta is se bhi kam kya karein

kar chuke sab apni apni hikmaten
dam nikalta ho to hamdam kya karein

dil ne seekha sheva-e-begaangi
aise na-mahram ko mehram kya karein

ma'arka hai aaj husn o ishq ka
dekhiye vo kya karein ham kya karein

aaina hai aur vo hain dekhiye
faisla dono ye baaham kya karein

aadmi hona bahut dushwaar hai
phir farishte hirs-e-aadam kya karein

tund-khoo hai kab sune vo dil ki baat
aur bhi barham ko barham kya karein

hyderabad aur langar yaad hai
ab ke dilli mein muharram kya karein

kahte hain ahl-e-sifaarish mujh se daagh
teri qismat hai buri ham kya karein

दिल गया तुम ने लिया हम क्या करें
जाने वाली चीज़ का ग़म क्या करें

हम ने मर कर हिज्र में पाई शिफ़ा
ऐसे अच्छों का वो मातम क्या करें

अपने ही ग़म से नहीं मिलती नजात
इस बिना पर फ़िक्र-ए-आलम क्या करें

एक साग़र पर है अपनी ज़िंदगी
रफ़्ता रफ़्ता इस से भी कम क्या करें

कर चुके सब अपनी अपनी हिकमतें
दम निकलता हो तो हमदम क्या करें

दिल ने सीखा शेवा-ए-बेगानगी
ऐसे ना-महरम को महरम क्या करें

मा'रका है आज हुस्न ओ इश्क़ का
देखिए वो क्या करें हम क्या करें

आईना है और वो हैं देखिए
फ़ैसला दोनों ये बाहम क्या करें

आदमी होना बहुत दुश्वार है
फिर फ़रिश्ते हिर्स-ए-आदम क्या करें

तुंद-ख़ू है कब सुने वो दिल की बात
और भी बरहम को बरहम क्या करें

हैदराबाद और लंगर याद है
अब के दिल्ली में मोहर्रम क्या करें

कहते हैं अहल-ए-सिफ़ारिश मुझ से 'दाग़'
तेरी क़िस्मत है बुरी हम क्या करें

- Dagh Dehlvi
0 Likes

Aadmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dagh Dehlvi

As you were reading Shayari by Dagh Dehlvi

Similar Writers

our suggestion based on Dagh Dehlvi

Similar Moods

As you were reading Aadmi Shayari Shayari