marna laga rahega yahaan jee to leejie | मरना लगा रहेगा यहां जी तो लीजिए - Dushyant Kumar

marna laga rahega yahaan jee to leejie
aisa bhi kya parhez zara-si to leejie

ab rind bach rahe hain zara tez raqs ho
mehfil se uth liye hain namaazi to leejie

patton se chahte ho bajen saaz ki tarah
pedon se pehle aap udaasi to leejie

khaamosh rah ke tumne hamaare sawaal par
kar di hai shehar bhar mein munaadi to leejie

ye raushni ka dard ye sirhan ye aarzoo
ye cheez zindagi mein nahin thi to leejie

firta hai kaise-kaise sawaalon ke saath vo
us aadmi ki jaama-talaashi to leejie

मरना लगा रहेगा यहां जी तो लीजिए
ऐसा भी क्या परहेज़, ज़रा-सी तो लीजिए

अब रिन्द बच रहे हैं ज़रा तेज़ रक़्स हो
महफ़िल से उठ लिए हैं नमाज़ी तो लीजिए

पत्तों से चाहते हो बजें साज़ की तरह
पेड़ों से पहले आप उदासी तो लीजिए

ख़ामोश रह के तुमने हमारे सवाल पर
कर दी है शहर भर में मुनादी तो लीजिए

ये रौशनी का दर्द, ये सिरहन, ये आरज़ू,
ये चीज़ ज़िन्दगी में नहीं थी तो लीजिए

फिरता है कैसे-कैसे सवालों के साथ वो
उस आदमी की जामातलाशी तो लीजिए

- Dushyant Kumar
7 Likes

Udasi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Dushyant Kumar

As you were reading Shayari by Dushyant Kumar

Similar Writers

our suggestion based on Dushyant Kumar

Similar Moods

As you were reading Udasi Shayari Shayari