gir jaaye jo deewaar to maatam nahin karte | गिर जाए जो दीवार तो मातम नहीं करते - Faisal Ajmi

gir jaaye jo deewaar to maatam nahin karte
karte hain bahut log magar ham nahin karte

hai apni tabeeyat mein jo khaami to yahi hai
ham ishq to karte hain magar kam nahin karte

nafrat se to behtar hai ki raaste hi juda hon
bekar guzargaahon ko baaham nahin karte

har saans mein dozakh ki tapish si hai magar ham
suraj ki tarah aag ko madhham nahin karte

kya ilm ki rote hon to mar jaate hon faisal
vo log jo aankhon ko kabhi nam nahin karte

गिर जाए जो दीवार तो मातम नहीं करते
करते हैं बहुत लोग मगर हम नहीं करते

है अपनी तबीअत में जो ख़ामी तो यही है
हम इश्क़ तो करते हैं मगर कम नहीं करते

नफ़रत से तो बेहतर है कि रस्ते ही जुदा हों
बेकार गुज़रगाहों को बाहम नहीं करते

हर साँस में दोज़ख़ की तपिश सी है मगर हम
सूरज की तरह आग को मद्धम नहीं करते

क्या इल्म कि रोते हों तो मर जाते हों 'फ़ैसल'
वो लोग जो आँखों को कभी नम नहीं करते

- Faisal Ajmi
0 Likes

Valentine Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Valentine Shayari Shayari