har shakhs pareshaan hai ghabraaya hua hai | हर शख़्स परेशान है घबराया हुआ है - Faisal Ajmi

har shakhs pareshaan hai ghabraaya hua hai
mahtaab badi der se gehnaaya hua hai

hai koi sakhi is ki taraf dekhne waala
ye haath badi der se failaaya hua hai

hissa hai kisi aur ka is kaar-e-ziyaan mein
sarmaaya kisi aur ka lagwaaya hua hai

saanpon mein asa fenk ke ab mahv-e-dua hoon
maaloom hai deemak ne use khaaya hua hai

duniya ke bujhaane se bujhi hai na bujhegi
is aag ko taqdeer ne dahkaaya hua hai

kya dhoop hai jo abr ke seene se lagi hai
sehra bhi use dekh ke sharmaaya hua hai

israar na kar mere kharaabe se chala ja
mujh par kisi aaseb ka dil aaya hua hai

tu khwaab-e-digar hai tiri tadfeen kahaan ho
dil mein to kisi aur ko dafnaaya hua hai

हर शख़्स परेशान है घबराया हुआ है
महताब बड़ी देर से गहनाया हुआ है

है कोई सख़ी इस की तरफ़ देखने वाला
ये हाथ बड़ी देर से फैलाया हुआ है

हिस्सा है किसी और का इस कार-ए-ज़ियाँ में
सरमाया किसी और का लगवाया हुआ है

साँपों में असा फेंक के अब महव-ए-दुआ हूँ
मालूम है दीमक ने उसे खाया हुआ है

दुनिया के बुझाने से बुझी है न बुझेगी
इस आग को तक़दीर ने दहकाया हुआ है

क्या धूप है जो अब्र के सीने से लगी है
सहरा भी उसे देख के शरमाया हुआ है

इसरार न कर मेरे ख़राबे से चला जा
मुझ पर किसी आसेब का दिल आया हुआ है

तू ख़्वाब-ए-दिगर है तिरी तदफ़ीन कहाँ हो
दिल में तो किसी और को दफ़नाया हुआ है

- Faisal Ajmi
0 Likes

Aag Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Aag Shayari Shayari