shaamiyaanon ki wazaahat to nahin ki gai hai | शामियानों की वज़ाहत तो नहीं की गई है - Faisal Ajmi

shaamiyaanon ki wazaahat to nahin ki gai hai
aaj khairaat hai daawat to nahin ki gai hai

dekhti hai hamein duniya use roka jaaye
saath rahte hain mohabbat to nahin ki gai hai

ham ne qaasa hi badhaaya hai dua dete hue
dar-b-dar ja ke shikaayat to nahin ki gai hai

raasta hai ise milne ki jagah kahte hain
aap se milne ki zahmat to nahin ki gai hai

aaj phir aaina dekha hai kai saal ke baad
kahi is baar bhi ujlat to nahin ki gai hai

pehli dhadkan hi miyaan wazn mein thi shukr karo
shaayri aaj inaayat to nahin ki gai hai

शामियानों की वज़ाहत तो नहीं की गई है
आज ख़ैरात है दावत तो नहीं की गई है

देखती है हमें दुनिया उसे रोका जाए
साथ रहते हैं मोहब्बत तो नहीं की गई है

हम ने कासा ही बढ़ाया है दुआ देते हुए
दर-ब-दर जा के शिकायत तो नहीं की गई है

रास्ता है इसे मिलने की जगह कहते हैं
आप से मिलने की ज़हमत तो नहीं की गई है

आज फिर आईना देखा है कई साल के बाद
कहीं इस बार भी उजलत तो नहीं की गई है

पहली धड़कन ही मियाँ वज़न में थी शुक्र करो
शाइरी आज इनायत तो नहीं की गई है

- Faisal Ajmi
0 Likes

Aaina Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Aaina Shayari Shayari