dukh nahin hai ki jal raha hoon main | दुख नहीं है कि जल रहा हूँ मैं - Faisal Ajmi

dukh nahin hai ki jal raha hoon main
raushni mein badal raha hoon main

tootaa hai to toot jaane do
aaine se nikal raha hoon main

rizq milta hai kitni mushkil se
jaise patthar mein pal raha hoon main

har khazaane ko maar di thokar
aur ab haath mal raha hoon main

khauf gharqaab ho gaya faisal
ab samundar pe chal raha hoon main

दुख नहीं है कि जल रहा हूँ मैं
रौशनी में बदल रहा हूँ मैं

टूटता है तो टूट जाने दो
आइने से निकल रहा हूँ मैं

रिज़्क़ मिलता है कितनी मुश्किल से
जैसे पत्थर में पल रहा हूँ मैं

हर ख़ज़ाने को मार दी ठोकर
और अब हाथ मल रहा हूँ मैं

ख़ौफ़ ग़र्क़ाब हो गया 'फ़ैसल'
अब समुंदर पे चल रहा हूँ मैं

- Faisal Ajmi
0 Likes

Udas Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Udas Shayari Shayari