adawaton mein jo khalk-e-khuda lagi hui hai | अदावतों में जो ख़ल्क़-ए-ख़ुदा लगी हुई है - Faisal Ajmi

adawaton mein jo khalk-e-khuda lagi hui hai
mohabbaton ko koi bad-dua lagi hui hai

panaah deti hai ham ko nashe ki be-khabri
hamaare beech khabar ki bala lagi hui hai

kamaal hai nazar-andaaz karna dariya ko
agarche pyaas bhi be-intihaa lagi hui hai

palak jhapakte hi khwaahish ne canvas badla
talash karne mein chehra naya lagi hui hai

tu aftaab hai jungle ko dhoop se bhar de
tiri nazar mere kheme pe kya lagi hui hai

ilaaj ke liye kis ko bulaaiye sahab
hamaare saath hamaari ana lagi hui hai

अदावतों में जो ख़ल्क़-ए-ख़ुदा लगी हुई है
मोहब्बतों को कोई बद-दुआ लगी हुई है

पनाह देती है हम को नशे की बे-ख़बरी
हमारे बीच ख़बर की बला लगी हुई है

कमाल है नज़र-अंदाज़ करना दरिया को
अगरचे प्यास भी बे-इंतिहा लगी हुई है

पलक झपकते ही ख़्वाहिश ने कैनवस बदला
तलाश करने में चेहरा नया लगी हुई है

तू आफ़्ताब है जंगल को धूप से भर दे
तिरी नज़र मिरे ख़ेमे पे क्या लगी हुई है

इलाज के लिए किस को बुलाइए साहब
हमारे साथ हमारी अना लगी हुई है

- Faisal Ajmi
0 Likes

Garmi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faisal Ajmi

As you were reading Shayari by Faisal Ajmi

Similar Writers

our suggestion based on Faisal Ajmi

Similar Moods

As you were reading Garmi Shayari Shayari