ham musaafir yoonhi masroof-e-safar jaayenge | हम मुसाफ़िर यूँही मसरूफ़-ए-सफ़र जाएँगे - Faiz Ahmad Faiz

ham musaafir yoonhi masroof-e-safar jaayenge
be-nishaan ho gaye jab shehar to ghar jaayenge

kis qadar hoga yahan mehr-o-wafa ka maatam
ham tiri yaad se jis roz utar jaayenge

jauhri band kiye jaate hain bazaar-e-sukhan
ham kise bechne almaas-o-guhar jaayenge

nemat-e-zeest ka ye qarz chukega kaise
laakh ghabra ke ye kahte rahein mar jaayenge

shaayad apna bhi koi bait hudi-khwaan ban kar
saath jaayega mere yaar jidhar jaayenge

faiz aate hain rah-e-ishq mein jo sakht maqaam
aane waalon se kaho ham to guzar jaayenge

हम मुसाफ़िर यूँही मसरूफ़-ए-सफ़र जाएँगे
बे-निशाँ हो गए जब शहर तो घर जाएँगे

किस क़दर होगा यहाँ मेहर-ओ-वफ़ा का मातम
हम तिरी याद से जिस रोज़ उतर जाएँगे

जौहरी बंद किए जाते हैं बाज़ार-ए-सुख़न
हम किसे बेचने अलमास-ओ-गुहर जाएँगे

नेमत-ए-ज़ीस्त का ये क़र्ज़ चुकेगा कैसे
लाख घबरा के ये कहते रहें मर जाएँगे

शायद अपना भी कोई बैत हुदी-ख़्वाँ बन कर
साथ जाएगा मिरे यार जिधर जाएँगे

'फ़ैज़' आते हैं रह-ए-इश्क़ में जो सख़्त मक़ाम
आने वालों से कहो हम तो गुज़र जाएँगे

- Faiz Ahmad Faiz
1 Like

Musafir Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faiz Ahmad Faiz

As you were reading Shayari by Faiz Ahmad Faiz

Similar Writers

our suggestion based on Faiz Ahmad Faiz

Similar Moods

As you were reading Musafir Shayari Shayari