tum aaye ho na shab-e-intizaar guzri hai | तुम आए हो न शब-ए-इंतिज़ार गुज़री है - Faiz Ahmad Faiz

tum aaye ho na shab-e-intizaar guzri hai
talash mein hai sehar baar baar guzri hai

junoon mein jitni bhi guzri b-kaar guzri hai
agarche dil pe kharaabi hazaar guzri hai

hui hai hazrat-e-naaseh se guftugoo jis shab
vo shab zaroor sar-e-koo-e-yaar guzri hai

vo baat saare fasaane mein jis ka zikr na tha
vo baat un ko bahut na-gawaar guzri hai

na gul khile hain na un se mile na may pee hai
ajeeb rang mein ab ke bahaar guzri hai

chaman pe ghaarat-e-gul-cheen se jaane kya guzri
qafas se aaj saba be-qaraar guzri hai

तुम आए हो न शब-ए-इंतिज़ार गुज़री है
तलाश में है सहर बार बार गुज़री है

जुनूँ में जितनी भी गुज़री ब-कार गुज़री है
अगरचे दिल पे ख़राबी हज़ार गुज़री है

हुई है हज़रत-ए-नासेह से गुफ़्तुगू जिस शब
वो शब ज़रूर सर-ए-कू-ए-यार गुज़री है

वो बात सारे फ़साने में जिस का ज़िक्र न था
वो बात उन को बहुत ना-गवार गुज़री है

न गुल खिले हैं न उन से मिले न मय पी है
अजीब रंग में अब के बहार गुज़री है

चमन पे ग़ारत-ए-गुल-चीं से जाने क्या गुज़री
क़फ़स से आज सबा बे-क़रार गुज़री है

- Faiz Ahmad Faiz
0 Likes

Gulshan Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Faiz Ahmad Faiz

As you were reading Shayari by Faiz Ahmad Faiz

Similar Writers

our suggestion based on Faiz Ahmad Faiz

Similar Moods

As you were reading Gulshan Shayari Shayari