hum tohfe mein ghadiyan to de dete hain | हम तोहफ़े में घड़ियाँ तो दे देते हैं - Fareeha Naqvi

hum tohfe mein ghadiyan to de dete hain
ik dooje ko waqt nahin de paate hain

aankhen black-and-white hain to phir in mein kyun
rang-birange khwaab kahaan se aate hain

khwaabon ki mitti se bane do koozon mein
do dariya hain aur ikatthe bahte hain

chhodo jaao kaun kahaan ki shehzaadi
shehzaadi ke haath mein chaale hote hain

dard ko is se koi farq nahin padta
hum be-kaar huroof ultate rahte hain

हम तोहफ़े में घड़ियाँ तो दे देते हैं
इक दूजे को वक़्त नहीं दे पाते हैं

आँखें ब्लैक-एण्ड-वाइट हैं तो फिर इन में क्यूँ
रंग-बिरंगे ख़्वाब कहाँ से आते हैं

ख़्वाबों की मिट्टी से बने दो कूज़ों में
दो दरिया हैं और इकट्ठे बहते हैं

छोड़ो जाओ कौन कहाँ की शहज़ादी
शहज़ादी के हाथ में छाले होते हैं

दर्द को इस से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता
हम बे-कार हुरूफ़ उलटते रहते हैं

- Fareeha Naqvi
4 Likes

Samundar Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Fareeha Naqvi

As you were reading Shayari by Fareeha Naqvi

Similar Writers

our suggestion based on Fareeha Naqvi

Similar Moods

As you were reading Samundar Shayari Shayari