aaj bhi qaafila-e-ishq ravaan hai ki jo tha | आज भी क़ाफ़िला-ए-इश्क़ रवाँ है कि जो था - Firaq Gorakhpuri

aaj bhi qaafila-e-ishq ravaan hai ki jo tha
wahi meel aur wahi sang-e-nishaan hai ki jo tha

phir tira gham wahi ruswa-e-jahaan hai ki jo tha
phir fasana b-hadees-e-digaraan hai ki jo tha

manzilen gard ke maanind udri jaati hain
wahi andaaz-e-jahaan-e-guzaraan hai ki jo tha

zulmat o noor mein kuchh bhi na mohabbat ko mila
aaj tak ek dhundlake ka samaan hai ki jo tha

yun to is daur mein be-kaif si hai bazm-e-hayaat
ek hangaama sar-e-ritl-e-giraan hai ki jo tha

laakh kar jaur-o-sitam laakh kar ehsaan-o-karam
tujh pe ai dost wahi wahm-o-gumaan hai ki jo tha

aaj phir ishq do-aalam se juda hota hai
aasteenon mein liye kaun-o-makaan hai ki jo tha

ishq afsurda nahin aaj bhi afsurda bahut
wahi kam kam asar-e-soz-e-nihaan hai ki jo tha

nazar aa jaate hain tum ko to bahut naazuk baal
dil mera kya wahi ai sheesha-giraan hai ki jo tha

jaan de baithe the ik baar havas waale bhi
phir wahi marhala-e-sood-o-ziyaan hai ki jo tha

aaj bhi said-gah-e-ishq mein husn-e-saffaak
liye abroo ki lachakti si kamaan hai ki jo tha

phir tiri chashm-e-sukhan-sanj ne chhedi koi baat
wahi jaadu hai wahi husn-e-bayaan hai ki jo tha

raat bhar husn par aaye bhi gaye sau sau rang
shaam se ishq abhi tak nigaraan hai ki jo tha

jo bhi kar jaur-o-sitam jo bhi kar ehsaan-o-karam
tujh pe ai dost wahi wahm-o-gumaan hai ki jo tha

aankh jhapki ki idhar khatm hua roz-e-visaal
phir bhi is din pe qayamat ka gumaan hai ki jo tha

qurb hi kam hai na doori hi ziyaada lekin
aaj vo rabt ka ehsaas kahaan hai ki jo tha

teera-bakhti nahin jaati dil-e-sozaan ki firaq
sham'a ke sar pe wahi aaj dhuaan hai ki jo tha

आज भी क़ाफ़िला-ए-इश्क़ रवाँ है कि जो था
वही मील और वही संग-ए-निशाँ है कि जो था

फिर तिरा ग़म वही रुस्वा-ए-जहाँ है कि जो था
फिर फ़साना ब-हदीस-ए-दिगराँ है कि जो था

मंज़िलें गर्द के मानिंद उड़ी जाती हैं
वही अंदाज़-ए-जहान-ए-गुज़राँ है कि जो था

ज़ुल्मत ओ नूर में कुछ भी न मोहब्बत को मिला
आज तक एक धुँदलके का समाँ है कि जो था

यूँ तो इस दौर में बे-कैफ़ सी है बज़्म-ए-हयात
एक हंगामा सर-ए-रित्ल-ए-गिराँ है कि जो था

लाख कर जौर-ओ-सितम लाख कर एहसान-ओ-करम
तुझ पे ऐ दोस्त वही वहम-ओ-गुमाँ है कि जो था

आज फिर इश्क़ दो-आलम से जुदा होता है
आस्तीनों में लिए कौन-ओ-मकाँ है कि जो था

इश्क़ अफ़्सुर्दा नहीं आज भी अफ़्सुर्दा बहुत
वही कम कम असर-ए-सोज़-ए-निहाँ है कि जो था

नज़र आ जाते हैं तुम को तो बहुत नाज़ुक बाल
दिल मिरा क्या वही ऐ शीशा-गिराँ है कि जो था

जान दे बैठे थे इक बार हवस वाले भी
फिर वही मरहला-ए-सूद-ओ-ज़ियाँ है कि जो था

आज भी सैद-गह-ए-इश्क़ में हुसन-ए-सफ़्फ़ाक
लिए अबरू की लचकती सी कमाँ है कि जो था

फिर तिरी चश्म-ए-सुख़न-संज ने छेड़ी कोई बात
वही जादू है वही हुस्न-ए-बयाँ है कि जो था

रात भर हुस्न पर आए भी गए सौ सौ रंग
शाम से इश्क़ अभी तक निगराँ है कि जो था

जो भी कर जौर-ओ-सितम जो भी कर एहसान-ओ-करम
तुझ पे ऐ दोस्त वही वहम-ओ-गुमाँ है कि जो था

आँख झपकी कि इधर ख़त्म हुआ रोज़-ए-विसाल
फिर भी इस दिन पे क़यामत का गुमाँ है कि जो था

क़ुर्ब ही कम है न दूरी ही ज़ियादा लेकिन
आज वो रब्त का एहसास कहाँ है कि जो था

तीरा-बख़्ती नहीं जाती दिल-ए-सोज़ाँ की 'फ़िराक़'
शम्अ के सर पे वही आज धुआँ है कि जो था

- Firaq Gorakhpuri
0 Likes

Ishq Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Ishq Shayari Shayari