jaur-o-be-mehri-e-ighmaaz pe kya rota hai | जौर-ओ-बे-मेहरी-ए-इग़्माज़ पे क्या रोता है - Firaq Gorakhpuri

jaur-o-be-mehri-e-ighmaaz pe kya rota hai
meherbaan bhi koi ho jaayega jaldi kya hai

kho diya tum ko to hum poochte firte hain yahi
jis ki taqdeer bigad jaaye vo karta kya hai

dil ka ik kaam jo hota nahin ik muddat se
tum zara haath laga do to hua rakha hai

nigaah-e-shokh mein aur dil mein hain choten kya kya
aaj tak hum na samajh paaye ki jhagda kya hai

ishq se tauba bhi hai husn se shikwe bhi hazaar
kahiye to hazrat-e-dil aap ka mansha kya hai

zeenat-e-dosh tira naama-e-aamaal na ho
teri dastaar se wa'iz ye latkata kya hai

haan abhi waqt ka aaina dikhaaye kya kya
dekhte jaao zamaana abhi dekha kya hai

na yagaane hain na begaane tiri mehfil mein
na koi gair yahan hai na koi apna hai

nigaah-e-mast ko jumbish na hui go sar-e-bazm
kuch to is jaam-e-laba-lab se abhi chhalaka hai

raat-din phirti hai palkon ke jo saaye saaye
dil mera us nigah-e-naaz ka deewaana hai

hum judaai se bhi kuch kaam to le hi lenge
be-niyaazaana ta'alluq hi chhuta achha hai

un se badh-chadh ke to ai dost hain yaadein in ki
naaz-o-andaaz-o-ada mein tiri rakha kya hai

aisi baaton se badalti hai kahi fitrat-e-husn
jaan bhi de de agar koi to kya hota hai

tiri aankhon ko bhi inkaar tiri zulf ko bhi
kis ne ye ishq ko deewaana bana rakha hai

dil tira jaan tiri aah tiri ashk tire
jo hai ai dost vo tera hai hamaara kya hai

dar-e-daulat pe duaaein si sooni hain main ne
dekhiye aaj faqeeron ka kidhar fera hai

tujh ko ho jaayenge shaitaan ke darshan wa'iz
daal kar munh ko garebaan mein kabhi dekha hai

hum kahe dete hain chaalon mein na aao un ki
sarvat-o-jaah ke ishvon se bacho dhoka hai

yahi gar aankh mein rah jaaye to hai chingaari
qatra-e-ashk jo bah jaaye to ik dariya hai

zulf-e-shab-goon ke siva nargis-e-jaadoo ke siva
dil ko kuch aur balaaon ne bhi aa ghera hai

lab-e-ejaaz ki saugand ye jhankaar thi kya
teri khaamoshi ke maanind abhi kuch toota hai

daar par gaah nazar gaah soo-e-shehar-e-nigaar
kuch sunen hum bhi to ai ishq iraada kya hai

aa ki ghurbat-kada-e-dehr mein jee bahlaaen
ai dil us jalwa-gah-e-naaz mein kya rakha hai

zakham hi zakham hoon main subh ki maanind firaq
raat bhar hijr ki lazzat se maza lootaa hai

जौर-ओ-बे-मेहरी-ए-इग़्माज़ पे क्या रोता है
मेहरबाँ भी कोई हो जाएगा जल्दी क्या है

खो दिया तुम को तो हम पूछते फिरते हैं यही
जिस की तक़दीर बिगड़ जाए वो करता क्या है

दिल का इक काम जो होता नहीं इक मुद्दत से
तुम ज़रा हाथ लगा दो तो हुआ रक्खा है

निगह-ए-शोख़ में और दिल में हैं चोटें क्या क्या
आज तक हम न समझ पाए कि झगड़ा क्या है

इश्क़ से तौबा भी है हुस्न से शिकवे भी हज़ार
कहिए तो हज़रत-ए-दिल आप का मंशा क्या है

ज़ीनत-ए-दोश तिरा नामा-ए-आमाल न हो
तेरी दस्तार से वाइ'ज़ ये लटकता क्या है

हाँ अभी वक़्त का आईना दिखाए क्या क्या
देखते जाओ ज़माना अभी देखा क्या है

न यगाने हैं न बेगाने तिरी महफ़िल में
न कोई ग़ैर यहाँ है न कोई अपना है

निगह-ए-मस्त को जुम्बिश न हुइ गो सर-ए-बज़्म
कुछ तो इस जाम-ए-लबा-लब से अभी छलका है

रात-दिन फिरती है पलकों के जो साए साए
दिल मिरा उस निगह-ए-नाज़ का दीवाना है

हम जुदाई से भी कुछ काम तो ले ही लेंगे
बे-नियाज़ाना तअ'ल्लुक़ ही छुटा अच्छा है

उन से बढ़-चढ़ के तो ऐ दोस्त हैं यादें इन की
नाज़-ओ-अंदाज़-ओ-अदा में तिरी रक्खा क्या है

ऐसी बातों से बदलती है कहीं फ़ितरत-ए-हुस्न
जान भी दे दे अगर कोई तो क्या होता है

तिरी आँखों को भी इंकार तिरी ज़ुल्फ़ को भी
किस ने ये इश्क़ को दीवाना बना रक्खा है

दिल तिरा जान तिरी आह तिरी अश्क तिरे
जो है ऐ दोस्त वो तेरा है हमारा क्या है

दर-ए-दौलत पे दुआएँ सी सुनी हैं मैं ने
देखिए आज फ़क़ीरों का किधर फेरा है

तुझ को हो जाएँगे शैतान के दर्शन वाइ'ज़
डाल कर मुँह को गरेबाँ में कभी देखा है

हम कहे देते हैं चालों में न आओ उन की
सर्वत-ओ-जाह के इश्वों से बचो धोका है

यही गर आँख में रह जाए तो है चिंगारी
क़तरा-ए-अश्क जो बह जाए तो इक दरिया है

ज़ुल्फ़-ए-शब-गूँ के सिवा नर्गिस-ए-जादू के सिवा
दिल को कुछ और बलाओं ने भी आ घेरा है

लब-ए-एजाज़ की सौगंद ये झंकार थी क्या
तेरी ख़ामोशी के मानिंद अभी कुछ टूटा है

दार पर गाह नज़र गाह सू-ए-शहर-ए-निगार
कुछ सुनें हम भी तो ऐ इश्क़ इरादा क्या है

आ कि ग़ुर्बत-कदा-ए-दहर में जी बहलाएँ
ऐ दिल उस जल्वा-गह-ए-नाज़ में क्या रक्खा है

ज़ख़्म ही ज़ख़्म हूँ मैं सुब्ह की मानिंद 'फ़िराक़'
रात भर हिज्र की लज़्ज़त से मज़ा लूटा है

- Firaq Gorakhpuri
0 Likes

Hijr Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Hijr Shayari Shayari