sitaaron se uljhta ja raha hoon | सितारों से उलझता जा रहा हूँ - Firaq Gorakhpuri

sitaaron se uljhta ja raha hoon
shab-e-furqat bahut ghabra raha hoon

tire gham ko bhi kuch bahla raha hoon
jahaan ko bhi samajhta ja raha hoon

yaqeen ye hai haqeeqat khul rahi hai
gumaan ye hai ki dhoke kha raha hoon

agar mumkin ho le le apni aahat
khabar do husn ko main aa raha hoon

hadein husn-o-mohabbat ki mila kar
qayamat par qayamat dhaa raha hoon

khabar hai tujh ko ai zabt-e-mohabbat
tire haathon mein lutta ja raha hoon

asar bhi le raha hoon teri chup ka
tujhe qaail bhi karta ja raha hoon

bharam tere sitam ka khul chuka hai
main tujh se aaj kyun sharmaa raha hoon

unhin mein raaz hain gul-baariyon ke
main jo chingaariyaan barsa raha hoon

jo un maasoom aankhon ne diye the
vo dhoke aaj tak main kha raha hoon

tire pahluu mein kyun hota hai mehsoos
ki tujh se door hota ja raha hoon

had-e-jor-o-karam se badh chala husn
nigah-e-yaar ko yaad aa raha hoon

jo uljhi thi kabhi aadam ke haathon
vo gutthi aaj tak suljhaa raha hoon

mohabbat ab mohabbat ho chali hai
tujhe kuch bhoolta sa ja raha hoon

ajal bhi jin ko sun kar jhoomti hai
vo nagme zindagi ke ga raha hoon

ye sannaata hai mere paanv ki chaap
firaq apni kuch aahat pa raha hoon

सितारों से उलझता जा रहा हूँ
शब-ए-फ़ुर्क़त बहुत घबरा रहा हूँ

तिरे ग़म को भी कुछ बहला रहा हूँ
जहाँ को भी समझता जा रहा हूँ

यक़ीं ये है हक़ीक़त खुल रही है
गुमाँ ये है कि धोके खा रहा हूँ

अगर मुमकिन हो ले ले अपनी आहट
ख़बर दो हुस्न को मैं आ रहा हूँ

हदें हुस्न-ओ-मोहब्बत की मिला कर
क़यामत पर क़यामत ढा रहा हूँ

ख़बर है तुझ को ऐ ज़ब्त-ए-मोहब्बत
तिरे हाथों में लुटता जा रहा हूँ

असर भी ले रहा हूँ तेरी चुप का
तुझे क़ाइल भी करता जा रहा हूँ

भरम तेरे सितम का खुल चुका है
मैं तुझ से आज क्यूँ शरमा रहा हूँ

उन्हीं में राज़ हैं गुल-बारियों के
मैं जो चिंगारियाँ बरसा रहा हूँ

जो उन मासूम आँखों ने दिए थे
वो धोके आज तक मैं खा रहा हूँ

तिरे पहलू में क्यूँ होता है महसूस
कि तुझ से दूर होता जा रहा हूँ

हद-ए-जोर-ओ-करम से बढ़ चला हुस्न
निगाह-ए-यार को याद आ रहा हूँ

जो उलझी थी कभी आदम के हाथों
वो गुत्थी आज तक सुलझा रहा हूँ

मोहब्बत अब मोहब्बत हो चली है
तुझे कुछ भूलता सा जा रहा हूँ

अजल भी जिन को सुन कर झूमती है
वो नग़्मे ज़िंदगी के गा रहा हूँ

ये सन्नाटा है मेरे पाँव की चाप
'फ़िराक़' अपनी कुछ आहट पा रहा हूँ

- Firaq Gorakhpuri
1 Like

Aankhein Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Aankhein Shayari Shayari