zindagi dard ki kahaani hai | ज़िंदगी दर्द की कहानी है - Firaq Gorakhpuri

zindagi dard ki kahaani hai
chashm-e-anjum mein bhi to paani hai

be-niyaazaana sun liya gham-e-dil
meherbaani hai meherbaani hai

vo bhala meri baat kya maane
us ne apni bhi baat maani hai

shola-e-dil hai ye ki shola-saaz
ya tira shola-e-jawaani hai

vo kabhi rang vo kabhi khushboo
gaah gul gaah raat-raani hai

ban ke maasoom sab ko taar gai
aankh us ki badi siyaani hai

aap-beeti kaho ki jag-beeti
har kahaani meri kahaani hai

dono aalam hain jis ke zer-e-nageen
dil usi gham ki raajdhaani hai

hum to khush hain tiri jafaa par bhi
be-sabab teri sargiraani hai

sar-b-sar ye faraaz-e-mehr-o-qamar
teri uthati hui jawaani hai

aaj bhi sun rahe hain qissa-e-ishq
go kahaani bahut puraani hai

zabt kijeye to dil hai angaara
aur agar roiyie to paani hai

hai thikaana ye dar hi us ka bhi
dil bhi tera hi aastaani hai

un se aise mein jo na ho jaaye
nau-jawaani hai nau-jawaani hai

dil mera aur ye gham-e-duniya
kya tire gham ki paasbaani hai

gardish-e-chashm-e-saaqi-e-dauraan
daur-e-aflaak ki bhi paani hai

ai lab-e-naaz kya hain vo asraar
khaamoshi jin ki tarjumaani hai

may-kadon ke bhi hosh udne lage
kya tiri aankh ki jawaani hai

khud-kushi par hai aaj aamada
are duniya badi divaani hai

koi izhaar-e-na-khushi bhi nahin
bad-gumaani si bad-gumaani hai

mujh se kehta tha kal farishta-e-ishq
zindagi hijr ki kahaani hai

bahr-e-hasti bhi jis mein kho jaaye
boond mein bhi vo be-karaani hai

mil gaye khaak mein tire ushshaq
ye bhi ik amr-e-aasmaani hai

zindagi intizaar hai tera
hum ne ik baat aaj jaani hai

kyun na ho gham se hi qimaash us ka
husn tasveer-e-shaadmaani hai

sooni duniya mein ab to main hoon aur
maatam-e-ishq-e-aan-jahaani hai

kuch na poocho firaq ahad-e-shabaab
raat hai neend hai kahaani hai

ज़िंदगी दर्द की कहानी है
चश्म-ए-अंजुम में भी तो पानी है

बे-नियाज़ाना सुन लिया ग़म-ए-दिल
मेहरबानी है मेहरबानी है

वो भला मेरी बात क्या माने
उस ने अपनी भी बात मानी है

शोला-ए-दिल है ये कि शोला-साज़
या तिरा शोला-ए-जवानी है

वो कभी रंग वो कभी ख़ुशबू
गाह गुल गाह रात-रानी है

बन के मासूम सब को ताड़ गई
आँख उस की बड़ी सियानी है

आप-बीती कहो कि जग-बीती
हर कहानी मिरी कहानी है

दोनों आलम हैं जिस के ज़ेर-ए-नगीं
दिल उसी ग़म की राजधानी है

हम तो ख़ुश हैं तिरी जफ़ा पर भी
बे-सबब तेरी सरगिरानी है

सर-ब-सर ये फ़राज़-ए-मह्र-ओ-क़मर
तेरी उठती हुई जवानी है

आज भी सुन रहे हैं क़िस्सा-ए-इश्क़
गो कहानी बहुत पुरानी है

ज़ब्त कीजे तो दिल है अँगारा
और अगर रोइए तो पानी है

है ठिकाना ये दर ही उस का भी
दिल भी तेरा ही आस्तानी है

उन से ऐसे में जो न हो जाए
नौ-जवानी है नौ-जवानी है

दिल मिरा और ये ग़म-ए-दुनिया
क्या तिरे ग़म की पासबानी है

गर्दिश-ए-चश्म-ए-साक़ी-ए-दौराँ
दौर-ए-अफ़लाक की भी पानी है

ऐ लब-ए-नाज़ क्या हैं वो असरार
ख़ामुशी जिन की तर्जुमानी है

मय-कदों के भी होश उड़ने लगे
क्या तिरी आँख की जवानी है

ख़ुद-कुशी पर है आज आमादा
अरे दुनिया बड़ी दिवानी है

कोई इज़हार-ए-ना-ख़ुशी भी नहीं
बद-गुमानी सी बद-गुमानी है

मुझ से कहता था कल फ़रिश्ता-ए-इश्क़
ज़िंदगी हिज्र की कहानी है

बहर-ए-हस्ती भी जिस में खो जाए
बूँद में भी वो बे-करानी है

मिल गए ख़ाक में तिरे उश्शाक़
ये भी इक अम्र-ए-आसमानी है

ज़िंदगी इंतिज़ार है तेरा
हम ने इक बात आज जानी है

क्यूँ न हो ग़म से ही क़िमाश उस का
हुस्न तसवीर-ए-शादमानी है

सूनी दुनिया में अब तो मैं हूँ और
मातम-ए-इश्क़-ए-आँ-जहानी है

कुछ न पूछो 'फ़िराक़' अहद-ए-शबाब
रात है नींद है कहानी है

- Firaq Gorakhpuri
0 Likes

Zindagi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Firaq Gorakhpuri

As you were reading Shayari by Firaq Gorakhpuri

Similar Writers

our suggestion based on Firaq Gorakhpuri

Similar Moods

As you were reading Zindagi Shayari Shayari