nibhegi kis tarah dil sochta hai | निभेगी किस तरह दिल सोचता है - Fuzail Jafri

nibhegi kis tarah dil sochta hai
ajab ladki hai jab dekho khafa hai

b-zaahir hai use bhi pyaar vaise
dilon ke bhed se waqif khuda hai

ye tanhaai ka kaala sard patthar
isee se umr-bhar sar phodna hai

magar ik baat dono jaante hain
na kuchh us ne na kuchh ham ne kaha hai

nahin mumkin agar saath umr-bhar ka
ye pal-do-pal ka milna kya bura hai

ghane jungle mein jaise shaam utre
koi yun jafari yaad aa raha hai

निभेगी किस तरह दिल सोचता है
अजब लड़की है जब देखो ख़फ़ा है

ब-ज़ाहिर है उसे भी प्यार वैसे
दिलों के भेद से वाक़िफ़ ख़ुदा है

ये तन्हाई का काला सर्द पत्थर
इसी से उम्र-भर सर फोड़ना है

मगर इक बात दोनों जानते हैं
न कुछ उस ने न कुछ हम ने कहा है

नहीं मुमकिन अगर साथ उम्र-भर का
ये पल-दो-पल का मिलना क्या बुरा है

घने जंगल में जैसे शाम उतरे
कोई यूँ 'जाफ़री' याद आ रहा है

- Fuzail Jafri
2 Likes

Mulaqat Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Fuzail Jafri

As you were reading Shayari by Fuzail Jafri

Similar Writers

our suggestion based on Fuzail Jafri

Similar Moods

As you were reading Mulaqat Shayari Shayari