tumhaare shehar mein aangan nahin hai | तुम्हारे शहर में आँगन नहीं है - Ghaus Siwani

tumhaare shehar mein aangan nahin hai
kahi tulsi nahin chandan nahin hai

club mein milte hain radha kanhaiya
ki jamuna tat nahin madhuban nahin hai

yahan har aur aatish hai dhuaan hai
kahi bhi aaj-kal saawan nahin hai

ameeri ka badan sone se peela
ghareebi ke liye utran nahin hai

vo dekhen kis tarah dil ki siyaahi
ki un ke paas ab darpan nahin hai

तुम्हारे शहर में आँगन नहीं है
कहीं तुलसी नहीं चंदन नहीं है

क्लब में मिलते हैं राधा कन्हैया
कि जमुना तट नहीं मधुबन नहीं है

यहाँ हर और आतिश है धुआँ है
कहीं भी आज-कल सावन नहीं है

अमीरी का बदन सोने से पीला
ग़रीबी के लिए उतरन नहीं है

वो देखें किस तरह दिल की सियाही
कि उन के पास अब दर्पन नहीं है

- Ghaus Siwani
0 Likes

Dil Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Ghaus Siwani

As you were reading Shayari by Ghaus Siwani

Similar Writers

our suggestion based on Ghaus Siwani

Similar Moods

As you were reading Dil Shayari Shayari