in bujhte chiraagon ko jala kyun nahin dete | इन बुझते चिराग़ों को जला क्यों नहीं देते - Gyan Prakash Vivek

in bujhte chiraagon ko jala kyun nahin dete
tahreer andheron ki mita kyun nahin dete

sunta nahin awaaz jo basti mein tumhaari
jungle mein khade hokar sada kyun nahin dete

hum khaanabadoshon ka na ghar hai na thikaana
mat poocho ki hum ghar ka pata kyun nahin dete

bhoochaal ki dhamki ka agar dar hai to logon
in kacche makaanon ko gira kyun nahin dete

har shai ka tumhein roop nazar aata hai kaala
aankhon se siyaah chashma hata kyun nahin dete

vo ped jo shadyantra kare dhoop se milkar
us ped ko tum jad se gira kyun nahin dete

इन बुझते चिराग़ों को जला क्यों नहीं देते
तहरीर अंधेरों की मिटा क्यों नहीं देते

सुनता नहीं आवाज़ जो बस्ती में तुम्हारी
जंगल में खड़े होकर सदा क्यों नहीं देते

हम खानाबदोशों का न घर है ना ठिकाना
मत पूछो कि हम घर का पता क्यों नहीं देते

भूचाल की धमकी का अगर डर है तो लोगों
इन कच्चे मकानों को गिरा क्यों नहीं देते

हर शै का तुम्हें रूप नज़र आता है काला
आंखों से सियाह चश्मा हटा क्यों नहीं देते

वो पेड़ जो षड्यंत्र करे धूप से मिलकर
उस पेड़ को तुम जड़ से गिरा क्यों नहीं देते

- Gyan Prakash Vivek
0 Likes

Terrorism Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Gyan Prakash Vivek

As you were reading Shayari by Gyan Prakash Vivek

Similar Writers

our suggestion based on Gyan Prakash Vivek

Similar Moods

As you were reading Terrorism Shayari Shayari