ik umr se ham tum aashna hain | इक उम्र से हम तुम आश्ना हैं - Hafeez Hoshiarpuri

ik umr se ham tum aashna hain
ham se mah o anjum aashna hain

dil doobta ja raha hai paiham
lab hain ki tabassum aashna hain

un manzilon ka suraagh kam hai
jin manzilon mein gum aashna hain

kuchh chaara-e-dard-e-aashnaai
kis soch mein gum-sum aashna hain

is daur mein tishna-kaam saaqi
ham jaise kai khum-aashna hain

इक उम्र से हम तुम आश्ना हैं
हम से मह ओ अंजुम आश्ना हैं

दिल डूबता जा रहा है पैहम
लब हैं कि तबस्सुम आश्ना हैं

उन मंज़िलों का सुराग़ कम है
जिन मंज़िलों में गुम आश्ना हैं

कुछ चारा-ए-दर्द-ए-आश्नाई
किस सोच में गुम-सुम आश्ना हैं

इस दौर में तिश्ना-काम साक़ी
हम जैसे कई ख़ुम-आश्ना हैं

- Hafeez Hoshiarpuri
0 Likes

Maikashi Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Hoshiarpuri

As you were reading Shayari by Hafeez Hoshiarpuri

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Hoshiarpuri

Similar Moods

As you were reading Maikashi Shayari Shayari