kuchh is tarah se nazar se guzar gaya koi | कुछ इस तरह से नज़र से गुज़र गया कोई - Hafeez Hoshiarpuri

kuchh is tarah se nazar se guzar gaya koi
ki dil ko gham ka saza-waar kar gaya koi

dil-e-sitm-zada ko jaise kuchh hua hi nahin
khud apne husn se yun be-khabar gaya koi

vo ek jalwa-e-sad-rang ik hujoom-e-bahaar
na jaane kaun tha jaane kidhar gaya koi

nazar ki tishna-e-deedaar thi rahi mahroom
nazar uthaai to dil mein utar gaya koi

nigaah-e-shauq ki mahroomiyon se na-waaqif
nigaah-e-shauq pe ilzaam dhar gaya koi

ab un ke husn mein husn-e-nazar bhi shaamil hai
kuchh aur meri nazar se sanwar gaya koi

kisi ke paanv ki aahat ki dil ki dhadkan thi
hazaar baar utha soo-e-dar gaya koi

naseeb-e-ahl-e-wafa ye sukoon-e-dil to na tha
zaroor naala-e-dil be-asar gaya koi

utha phir aaj mere dil mein rashk ka toofaan
phir un ki raah se baa-chashm-e-tar gaya koi

ye kah ke yaad karenge hafiz dost mujhe
wafa ki rasm ko paainda kar gaya koi

कुछ इस तरह से नज़र से गुज़र गया कोई
कि दिल को ग़म का सज़ा-वार कर गया कोई

दिल-ए-सितम-ज़दा को जैसे कुछ हुआ ही नहीं
ख़ुद अपने हुस्न से यूँ बे-ख़बर गया कोई

वो एक जल्वा-ए-सद-रंग इक हुजूम-ए-बहार
न जाने कौन था जाने किधर गया कोई

नज़र कि तिश्ना-ए-दीदार थी रही महरूम
नज़र उठाई तो दिल में उतर गया कोई

निगाह-ए-शौक़ की महरूमियों से ना-वाक़िफ़
निगाह-ए-शौक़ पे इल्ज़ाम धर गया कोई

अब उन के हुस्न में हुस्न-ए-नज़र भी शामिल है
कुछ और मेरी नज़र से सँवर गया कोई

किसी के पाँव की आहट कि दिल की धड़कन थी
हज़ार बार उठा सू-ए-दर गया कोई

नसीब-ए-अहल-ए-वफ़ा ये सुकून-ए-दिल तो न था
ज़रूर नाला-ए-दिल बे-असर गया कोई

उठा फिर आज मिरे दिल में रश्क का तूफ़ाँ
फिर उन की राह से बा-चश्म-ए-तर गया कोई

ये कह के याद करेंगे 'हफ़ीज़' दोस्त मुझे
वफ़ा की रस्म को पाइंदा कर गया कोई

- Hafeez Hoshiarpuri
0 Likes

Nigaah Shayari

Our suggestion based on your choice

More by Hafeez Hoshiarpuri

As you were reading Shayari by Hafeez Hoshiarpuri

Similar Writers

our suggestion based on Hafeez Hoshiarpuri

Similar Moods

As you were reading Nigaah Shayari Shayari